नाबालिग के साथ बलात्कार करने वाले मिस्त्री को 20 साल की जेल Public Live

0
20

नाबालिग के साथ बलात्कार करने वाले मिस्त्री को 20 साल की जेल

PublicLive.co.in

भोपाल। राजधानी की जिला अदालत ने रातीबड़ थाना क्षेत्र में नाबालिग से बलात्कार के मामले में तीन साल चली सुनवाई के बाद आरोपी सुदामा पटेल  को दोषी करार देते हुए 20 साल की जेल सहित दो हजार रुपए का जुर्माने की सजा सुनाई है। यह फैसला पॉक्सो मामले की विशेष अदालत में न्यायाधीश तृप्ति पांडे ने सुनाया है। प्रकरण में शासन की ओर से विशेष लोक अभियोजक टीपी. गौतम, रागिनी श्रीवास्तडव एवं सरला कहार ने पैरवी करते हुए दलीले पेश की थी। संभागीय जनसम्पर्क अधिकारी मनोज त्रिपाठी ने जानकारी देते हुए बताया कि 4 जुलाई 2020 को नीलबड मे परिवार के साथ रहने वाली नाबालिग किशोरी ने अपने परिजनो के साथ रातीबड थाने पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज कराते हुए बताया कि उसके मकान मे प्लास्टर का काम करने के लिये सुदामा नामक अंकल आते-रहते थे, जिसके कारण वह उन्हे पहचानती थी। 4 जुलाई की सुबह करीब 11 बजे किशोरी नहाने के लिये बाथरुम गई थी, तभी आरोपी सुदामा पटेल काम के लिये उसके घर पर आ गया, उस समय घर पर कोई नही था। आरोपी सुदामा ने किशोरी से अपने साथ चलने का बोला जिसपर नाबालिग ने मना कर दिया। इसके बाद आरोपी सुदामा ने बलपूर्वक उसके साथ गलत काम कर डाला। किशोरी के लगातार शोर मचाने पर उसका भाई मौके पर आ गया जिसे देखकर आरोपी सुदामा वहॉ से भाग गया। बाद में माता-पिता के आने पर नाबालिग ने उन्हे आरोपी की सारी करतूत बताई। शिकायत मिलने पर रातीबड पुलिस ने मामला कायम कर विवेचना के बाद अभियोग पत्र न्यायालय में पेश किया था। अदालत द्वारा अभियोजन के तर्को, दस्‍तावेजों, साक्ष्यो एवं चिकित्सीय साक्ष्य से सहमत होते हुए आरोपी सुदामा पटेल को धारा 376 भादवि एवं 3/4 पॉक्सो एक्ट में 20 साल का सश्रम कारावास व 2 हजार रुपये के अर्थदण्ड से दण्डित किये जाने का फैसला सुनाया है।

 

Previous articleपुलिसकर्मियो पर गुस्साई भीड़ ने किया पथराव, कई जवान घायल Public Live
Next articleघर से अपहरण कर शादी का झांसा देकर नाबालिग से किया दुष्कर्म, कोर्ट ने सुनाई 20 साल की सजा Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।