पहली बार समाजवादी पार्टी के टिकट से विधायक बने थे नारायण त्रिपाठी Public Live

0
17

पहली बार समाजवादी पार्टी के टिकट से विधायक बने थे नारायण त्रिपाठी

PublicLive.co.in

मैहर ।  जब कांग्रेस सरकार अल्पमत में आई तो समर्थन करते नजर आए थे। 2018 के चुनाव में भाजपा से जीत हासिल की। जब कांग्रेस सरकार अल्पमत में आई तो नारायण त्रिपाठी कांग्रेस का समर्थन करते नजर आए थे। उन्होंने मैहर को जिला बनाने के लिए तत्कालीन मुख्यमंत्री कमल नाथ को राजी कर लिया था। 2020 में उन्होंने विंध्य प्रदेश बनाने की मांग उठाई। दो माह पूर्व उन्होंने पत्र लिखकर पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय अर्जुन सिंह की प्रतिमा भोपाल में स्थापित करने और सतना में लगी प्रतिमा के अनावरण के लिए पत्र लिखा था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सात मार्च को भोपाल में अर्जुन सिंह की प्रतिमा का अनावरण भी कर दिया है।

नारायण त्रिपाठी पहली बार 2003 में समाजवादी पार्टी के टिकट से विधायक बने थे

2005 में वह समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भी रहे।

2008 के चुनाव में सपा की टिकट पर चुनाव लड़े, लेकिन भाजपा से करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा।

2013 में कांग्रेस से टिकट मिला और वे चुनाव जीत गए।

2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस से अजय सिंह राहुल को टिकट मिला तो विरोध करना शुरू कर दिया।

2015 में उन्होंने कांग्रेस से त्यागपत्र दिया।

2016 के विधानसभा के उपचुनाव में भाजपा से लड़कर जीत दर्ज की।

2018 के चुनाव में भाजपा से जीत हासिल की।

Previous articleअब तुम अच्छे नहीं लगते, तुम्हारे गाल पिचक गए…कहकर पत्नी ने छोड़ा, पति पहुंचा थाने Public Live
Next article फिर पलटी मार सकते हैं स्वामी प्रसाद मौर्य ! Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।