पा‎किस्तान के विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट Public Live

0
22

पा‎किस्तान के विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट

PublicLive.co.in

नई दिल्ली । पड़ोसी देश पाकिस्तान में राजनीतिक अस्थिरता और आर्थिक संकट के बीच, ऋण पुनर्भुगतान के कारण विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट जारी है। स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान (एसबीपी) की रिपोर्ट में कहा गया है कि विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट का सिलसिला जारी है और 26 जनवरी को यह 8.21 अरब डॉलर दर्ज किया गया, जो पिछले सप्ताह की 8.27 अरब डॉलर की तुलना में 5.4 करोड़ डॉलर कम है। पाकिस्तान के वाणिज्यिक बैंकों के भंडार के साथ देश का कुल तरल विदेशी मुद्रा भंडार 13.26 बिलियन अमरीकी डॉलर है, देश के वाणिज्यिक बैंकों के पास 5.04 बिलियन अमरीकी डॉलर का भंडार है। हालांकि, पाकिस्तान के केंद्रीय बैंक ने अपने तीन अरब डॉलर के ऋण कार्यक्रम के तहत अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से 70.56 करोड़ डॉलर की हालिया किश्त के सकारात्मक प्रभाव पड़ने की बात कही है। आरिफ हबीब लिमिटेड के सीईओ शाहिद अली हबीब ने सोशल मीडिया पर बताया कि उच्च आरक्षित स्तर ने अमेरिकी डॉलर के मुकाबले पाकिस्तान के रुपये को स्थिर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। जून 2024 तक पाकिस्तान के विदेशी मुद्रा भंडार के लिए आईएमएफ का 9.1 बिलियन अमरीकी डॉलर का संशोधन निरंतर क्रमिक विकास के संकेत देता है। एक समाचार पत्र की खबर के मुताबिक पिछले सप्ताह विदेशी मुद्रा भंडार घटकर 8.27 अरब डॉलर रह गया था। मुद्रा भंडार कम रहने और मौजूदा राजनीतिक उथल-पुथल के कारण आईएमएफ सौदे में और देरी की आशंका के कारण अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 276 पाकिस्तानी रुपये के रिकॉर्ड निचले स्तर पर आ गया है।

Previous articleवित्त वर्ष 2024-25 में आईडीबीआई की रणनीतिक बिक्री होगी पूरी: दीपम Public Live
Next articleपेटीएम ऐप 29 फरवरी के बाद भी काम करता रहेगा: सीईओ  Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।