पुतिन के खिलाफ हुआ भारी प्रदर्शन, विदेशी पत्रकारों को भी हिरासत में ‎लिया  Public Live

0
12

पुतिन के खिलाफ हुआ भारी प्रदर्शन, विदेशी पत्रकारों को भी हिरासत में ‎लिया 

PublicLive.co.in

मॉस्को । रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के खिलाफ रूस में बड़ा विरोध प्रदर्शन हुआ है। स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार चुनाव मुख्यालय के बाहर प्रदर्शनकारियों ने नारे लगाते हुए प्रदर्शन किया है। प्रदर्शन को रोकने के लिए पु‎लिस के अधिकारियों ने कई लोगों को हिरासत में लिया है। इस कार्रवाई में मॉस्को में विदेशी प्रेस संगठनों के कई पत्रकारों को भी हिरासत में लिया गया। जानकारी के अनुसार पुतिन के चुनाव मुख्यालय पर भारी विरोध प्रदर्शन में कई महिलाएं भी शामिल हैं। ये महिलाएं यूक्रेन में लड़ाई के लिए भेजे गए अपने पतियों और बेटों की घर वापसी की मांग लंबे समय से कर रहीं है। एक वीडियो भी जारी हुआ है ‎जिसमें रूसी अधिकारियों को रेड स्क्वायर के पास प्रेस जैकेट पहने कई लोगों को हिरासत में लेते हुए दिखाया गया है।

रूसी सरकार की इस कार्रवाई पर को लेकर बताया जा रहा है ‎कि कम से कम 27 लोगों को हिरासत में लिया गया है। इनमें एक प्रदर्शनकारी को जबरदस्ती पुलिस वैन में डालकर पुलिस स्टेशन के जाया गया है। एक मी‎डिया रिपोर्ट के अनुसार बंदियों से मिलने के लिए एक वकील को भेजा, लेकिन उन्हें मिलने से मना कर दिया गया। पकड़े गए लोगों में प्र‎ति‎ष्ठित प्रेस के ‎लिए काम करने वाले पत्रकार और साथ ही मानवाधिकार कार्यकर्ता भी शामिल हैं। रैली को कवर करने वाले अन्य सात पत्रकारों को बासमनी पुलिस स्टेशन ले जाया गया है।

Previous articleयुवती ने स्पाइसजेट फ्लाइट के अंदर लगाया छेड़छाड़ का आरोप Public Live
Next articleप्रदेश भर में दुधारू पशुओं को लगेंगे नि:शुल्क टीके Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।