पुराने शैक्षणिक सिलेबस के अनुसार ही होगी पढ़ाई Public Live

0
19

पुराने शैक्षणिक सिलेबस के अनुसार ही होगी पढ़ाई

PublicLive.co.in

नई दिल्ली । नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत स्कूलों में 2024-25 के सत्र में वर्ष 2023 24 के सत्र के अनुसार ही पढ़ाई होगी। एनसीईआरटी की नई किताबें छपकर अभी तक नहीं आई हैं। नाही शिक्षकों को संशोधित सिलेबस उपलब्ध कराया जा सका है। शिक्षकों को कैसे पढाना है, कैसे मूल्यांकन करना है। इसकी हैंडबुक अभी तैयार की जा रही है। जिसके कारण पुराने सत्र के अनुसार ही नए सत्र मैं पढ़ाई कराई जाने का निर्णय लिया गया है। 

नए शिक्षण सत्र में नवमी कक्षा में दो भारतीय भाषाओं सहित तीन भाषा में और 11वीं में एक भारतीय भाषा सहित दो भाषाएं अनिवार्य रूप से पढाने का निर्णय लिया गया था। सिलेबस फाइनल नहीं होने के कारण अब 2024-25 के सत्र में यह लागू नहीं होगा। 

एनसीईआरटी को नए सिलेबस के अनुसार जो किताबें छपवाकर उपलब्ध करानी थी। इसमें एनसीईआरटी विफल रहा है। नवमी और ग्यारहवीं कक्षा की किताबें अगले साल ही छपकर आ पाएंगी। नई शिक्षा नीति के तहत हर क्लास में क्रेडिट सिस्टम को लेकर भी अभी कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है। बोर्ड परीक्षा भी दो मौके पर खुली किताबों के माध्यम से कराए जाने पर विचार विमर्श चल रहा है। अभी इसके संबंध में अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है। इसे पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किया जाना था। कुल मिलाकर पिछले शैक्षणिक सत्र की तरह ही नए सत्र 2024-25 की पढ़ाई होगी। 

Previous articleकमलनाथ के नाम से सोशल मीडिया में धोखाधड़ी Public Live
Next articleराज ठाकरे की भाजपा से नजदीकियों पर भड़के उद्धव बोले- महाराष्ट्र में पीएम मोदी की नहीं है लहर Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।