पुलिस ने पकड़ा ऐसा चोर गिरोह जो खरीददार के साथ मिलकर करता था चोरी, ट्रक से निकालते थे गेहूं और सोयाबीन Public Live

0
12

पुलिस ने पकड़ा ऐसा चोर गिरोह जो खरीददार के साथ मिलकर करता था चोरी, ट्रक से निकालते थे गेहूं और सोयाबीन

PublicLive.co.in

उज्जैन ।   वेयर हाउसों की रेकी कर रात में चोरी की घटना को अंजाम देते हुए ट्रक से गेहूं और सोयाबीन चोरी करने वाला गिरोह नानाखेड़ा पुलिस ने पकड़ा है। पांच आरोपियों में एक खरीदार भी शामिल हैं, जबकि गिरोह के दो सरगना होशंगाबाद के निवासी बताए गए हैं, जो फरार हैं। इंदौर रोड निनौरा क्षेत्र में स्थित वेयर हाउस से नवंबर में 9 क्विंटल गेहूं चोरी की घटना सामने आई थी। इसमें पुलिस सीसीटीवी फुटेज समेत अन्य बिंदुओं पर काम कर रही थी, क्योंकि नानाखेड़ा के अलावा घट्टिया थाना क्षेत्र व माकड़ौन थाना के वेयर हाउस से भी इसी तरह गेहूं चोरी हुआ था। इसमें एसपी सचिन शर्मा ने टीम गठित की थी। टीम में थाना प्रभारी कमल निगवाल, सहायक उपनिरीक्षक सतीश नाथ, पीयूष मिश्रा, अनिल आर्य, मुकेश मालवीय व अन्य थे। इस बीच मुखबिर की मदद से निनौरा निवासी विजय पिता दिनेश के बारे में सूचना मिली। 

जिसे पकड़ा तो उसने साथी धार के शेखर पिता समुंदर निवासी सेठीनगर, चंचल पिता संतोष चावड़ा निवासी नागझिरी व अनिल पिता भंवरलाल निनौरा के नाम बताए। इनसे पूछताछ करने पर चोरी का गेहूं खरीदने वाले रामकिशन राय निवासी बंगाली कॉलोनी का पता चला। पुलिस ने उसे भी हिरासत में ले लिया है। एडिशनल एसपी गुरुप्रसाद पाराशर ने बताया कि बड़ा चोर गिरोह है, जिसने हाल ही में घट्टिया थाना क्षेत्र के वेयर हाउस से 105 बोरी गेहूं व माकड़ौन थाना क्षेत्र के वेयर हाउस से 40 बोरी गेहूं चुराना स्वीकारा है। गिरोह के सरगना मुकेश व रोहित निवासी होशंगाबाद बताए गए है, जिनकी पुलिस सरगर्मी से तलाश कराई जा रही है। दोनों के पकड़े जाने पर अन्य वारदातों के खुलने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता।

Previous articleमप्र में कांग्रेस करेगी यूसीसी का विरोध Public Live
Next articleआगरा में महिला ने प्रेम में धोखा खाया…  Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।