पेड़ पर चढ़कर चिल्लाने लगा शख्स…..मेरी बीवी और बच्चे को बुलाओ Public Live

0
17

पेड़ पर चढ़कर चिल्लाने लगा शख्स…..मेरी बीवी और बच्चे को बुलाओ

PublicLive.co.in

नई दिल्ली । पेड़ पर चढ़कर अचानक जोर-जोर से चिल्लाने लगा। मेरी बीवी और बच्चे को बुलाओ.. मेरी बीवी और बच्चे को बुलाओ। उन्हें दिल्ली लेकर आओ तभी मैं नीचे उतरूंगा। शख्स को चिल्लाते देख पेड़ के नीचे भीड़ लग गई। मामला पुरानी दिल्ली के रेलवे स्टेशन का है। यहां के कंपाउड में एक पीपल का विशाल पेड़ है। शख्स उसी पर चढ़कर शोर मचा रहा था। मौके पर पहुंची पुलिस शख्स को पेड़ से उतारने की कोशिश करती रही। करीब 11 घंटे बाद शख्स को पुलिस ने उतारने में कामयाबी हासिल की। 

पुलिस ने शख्स को उतारने की पूरी कोशिश की, लेकिन जब शख्स नहीं उतारा तब दमकलकर्मियों को भी बुलाया गया। लगभग 4 घंटे तक मशक्कत के बाद भी जब वह नीचे नहीं उतरा तब फायर ब्रिगेड की ब्रांटो स्काय लिफ्ट वाली डेढ़ करोड़ महंगी गाड़ी मंगाई गई। जिसमें कई मीटर तक सीढ़ी लगी होती है, जिससे हाई राइज बिल्डिंग में लगी आग को बुझाने के दौरान इस्तेमाल किया जाता है।

मौके पर एसओ सुशील, एसटीओ प्रेमलाल और एडीओ सुमित तहलान की टीम करीब डेढ़ घंटे मशक्कत के बाद उस शख्स को उतारने में किसी तरह कामयाब रही। वह शख्स अपनी डिमांड पूरी किए बिना नीचे उतरने को तैयार नहीं था। वह बार-बार एक ही रट लगा रहा था, उसकी पत्नी बच्चे बिहार में है, उन्हें दिल्ली बुलाओ। 

Previous articleबारिश के बाद आज से बदलेगा मौसम, बढ़ेगा तापमान, IMD की इन इलाकों में बारिश की चेतावनी Public Live
Next articleवरुण और स्वामी को लोकसभा चुनाव लड़ा सकती है सपा Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।