प्रधानमंत्री आवास दिलाने के नाम पर तीन लोगों से ठगे 45 हजार रुपये  Public Live

0
19

प्रधानमंत्री आवास दिलाने के नाम पर तीन लोगों से ठगे 45 हजार रुपये 

PublicLive.co.in

बिरगांव नगर निगम क्षेत्र में प्रधानमंत्री आवास दिलाने के नाम पर तीन लोगों से 45 हजार रुपये ठगने का मामला सामने आया है। ठगों ने पीड़ितों को बकायदा निगम का फर्जी रसीद, सील मुहर लगाकर दिया था। निगम आयुक्त की ओर से उरला पुलिस थाने में इसकी शिकायत दर्ज कराई गई। पुलिस ने पैसा ठगने वाले एक के खिलाफ चार सौ बीसी का केस दर्ज कर लिया है।

उरला पुलिस के मुताबिक बिरगांव नगर निगम आयुक्त बृजेश सिंह क्षत्रिय ने लिखित शिकायत पत्र देते हुए जानकारी दी कि बीएसयूपी कालोनी उरला में निर्मित प्रधानमंत्री आवास दिलाने के नाम पर आरोपित सुशांत नेताम उर्फ प्रहलाद ने तीन लोगों से 45 हजार रुपये ले लिए। यही नहीं उसने पीड़ितों को निगम की फर्जी रसीद, आवास आवंटन का पत्र भी दे दिया था।

ठग ने पीड़ितों को दिया निगम की फर्जी रसीद

निगमकर्मी विरेंद्र प्रताप सिंह ठाकुर व इंद्रनील सिंह परिहार के जरिए शिकायत आवेदन पत्र की जांच कराई गई।जांच के दौरान हितग्राही बीएसयूपी कालोनी में निवासरत अशोक पांडेय से पूछताछ करने उसने सुशांत नेताम द्वारा 35 हजार रुपये लेकर पीएम आवास आवंटित करना बताया।

अशोक ने सुशांत से मिले निगम के तीन फर्जी रसीद भी दिए। 12 मार्च को सुशांत नेताम ने फिर से दिगभ्रमित कर आइ ब्लाक में दो व्यक्तियों को भेजकर विद्युतिकरण का काम करवाया जा रहा था, जबकि यह ब्लाक किसी अन्य हितग्राही को निगम से आबंटित किया जा चुका है। पुलिस ने इसके आधार पुलिस ने धारा 420, 467, 468 का केस दर्ज कर आरोपित की तलाश शुरू कर दी है।

 

Previous articleआचार संहिता से पहले छह आईएएस अधिकारियों का तबादला Public Live
Next articleलोकसभा के सियासी रण में भाजपा और कांग्रेस में पोस्‍टर वार Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।