फोर्टिसहेल्थकेयर को आयकर ‎विभाग ने भेजा नो‎टिस  Public Live

0
18

फोर्टिसहेल्थकेयर को आयकर ‎विभाग ने भेजा नो‎टिस 

PublicLive.co.in

मुंबई । हेल्थकेयर सेक्टर की कंपनी फोर्टिसहेल्थकेयर लिमिटेड की सब्सिडियरी कंपनी फोर्टिस हॉस्पिटल्स लिमिटेड को आयकर विभाग की तरफ से नोटिस मिला है। इस नोटिस में कंपनी से 89.53 करोड़ रुपये के टैक्स और ब्याज जमा करने की मांग की गई है। इस रकम में 9.54 करोड़ रुपये का ब्याज भी शामिल है। आगे इस बारे में कंपनी ने कहा कि वह इस ऑर्डर पर विचार कर रही है। कंपनी ने ये भी कहा कि आने वाले समय में वह इस पर उचित कार्रवाई करेगी। फोर्टिस हेल्थकेयर ने मार्च तिमाही के परिणाम घोषित कर दिए हैं। अस्पताल कारोबार में मजबूत प्रदर्शन से मार्च तिमाही में फोर्टिस का मुनाफा 59 फीसदी बढ़कर 138 करोड़ रुपये हो गया। बता दें कि हेल्थकेयर प्रमुख ने वित्त वर्ष 2021-22 की जनवरी-मार्च तिमाही में 87 करोड़ रुपये का मुनाफा दर्ज किया था। फोर्टिस हेल्थकेयर ने एक बयान में कहा कि कुल आय चौथी तिमाही में बढ़कर 1,656 करोड़ रुपये हो गई, जो वित्त वर्ष 2021-22 की चौथी तिमाही में 1,384 करोड़ रुपये थी। मार्च 2023 में समाप्त तिमाही के लिए, कंपनी का नेट प्रॉफिट वित्त वर्ष 2021-22 के मुकाबले 790 करोड़ रुपये से घटकर 633 करोड़ रुपये रह गया। वहीं कंपनी का ए‎बिटडा में 25 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है। कंपनी का हॉस्पिटल रेवेन्यू जो कुल आय का 80 फीसदी से अधिक है। बता दें कि रेवेन्यू 29.7 फीसदी साल-दर-साल बढ़कर 1,350 करोड़ रुपये हो गया है। डायग्नोस्टिक्स से कंपनी की आय 13.3 फीसदी घटकर 292 करोड़ रुपये हो गई। ऑक्यूपेंसी तिमाही और पूरे साल दोनों के लिए 67 फीसदी तक बढ़ गई है जो कि पिछले वित्त वर्ष में यह 59 फीसदी और 63 फीसदी था।

Previous articleहोली के अवसर पर पूरे प्रदेश में होगी निर्बाध विद्युत आपूर्ति Public Live
Next articleअब बसपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगा अपना दल कमेरावादी, घोषित सीटों की सूची वापस ली Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।