बसपा से गठबंधन की जुगत लगा रहा अपना दल कमेरावादी Public Live

0
22

बसपा से गठबंधन की जुगत लगा रहा अपना दल कमेरावादी

PublicLive.co.in

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में एक नया गठबंधन की आहट सुनाई दे रही है। इंडिया गठबंधन में एक भी सीट नहीं मिलने से नाराज अपना दल कमेरावादी अब बसपा से गठबंधन की जुगत लगा रहा है। दोनो ही दलों में इसको लेकर अंतिम दौर की बात चल रही है। इसके लिए पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष कृष्णा पटेल ने लोकसभा की तीन सीटों पर चुनाव लड़ने के फैसले को फिलहाल स्थगित कर दिया है। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने नाम छपाने की शर्त पर बताया कि लोकसभा चुनाव के लिए बसपा से बातचीत चल रही है। अगर सब कुछ ठीक रहा तो बसपा के साथ मिलाकर चुनाव लड़ा जाएगा।

बता दें कि इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इंक्लूसिव अलायंस (इंडिया) गठबंधन के घटक अपना दल (कमेरावादी) ने आगामी लोकसभा चुनाव के लिए अपनी पार्टी को गठबंधन के तहत एक भी सीट नहीं दिए जाने पर नाराजगी जाहिर की थी। तब पार्टी ने कहा था कि बिहार में जो नीतीश कुमार के साथ हुआ, वही उत्तर प्रदेश में उसके साथ किया जा रहा है। विधायक पल्लवी पटेल ने विपक्षी गठबंधन के तहत आगामी लोकसभा चुनाव के लिये उत्तर प्रदेश में अपनी पार्टी को एक भी सीट नहीं दिये जाने पर नाराजगी जाहिर की थी। इस बाद अखिलेश यादव ने गठबंधन तोड़ने का एलान कर दिया था।दरअसल, अपना दल (कमेरावादी) ने मिर्जापुर, फूलपुर और कौशांबी से चुनाव लड़ने का ऐलान किया था। इसके पीछे एक बड़ी वजह थी, इन तीनों सीटों पर कुर्मी वोटरों की निर्णायक भूमिका। इसके पहले, कृष्णा पटेल ने इंडिया गठबंधन के तहत अपने स्तर से ही तीन सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा की थी। अब उन्होंने घोषित सीटों की सूची वापस ले ली है। पार्टी की तरफ से जारी बयान में सीटों की सूची को अग्रिम सूचना तक निरस्त करने की बात कही गई है। साथ ही कहा है कि शीघ्र ही संशोधित नई सूची जारी की जाएगी।

 

Previous articleछत्तीसगढ़ से आए 3 सगे भाइयों की गैंग रात में चोरी करते थे, 5 गिरफ्तार  Public Live
Next articleबसपा ने जारी की पहली सूची Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।