बाल्टीमोर में जहाज के टकराने से पुल का बड़ा हिस्सा नदी में गिरा…. Public Live

0
24

बाल्टीमोर में जहाज के टकराने से पुल का बड़ा हिस्सा नदी में गिरा….

PublicLive.co.in

बाल्टीमोर। बाल्टीमोर का सबसे लंबा फ्रांसिस स्कॉट ब्रिज मंगलवार सुबह एक बड़े मालवाहक जहाज से टकरा जाने के बाद पानी में ढह गया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, पुल के ढहने से पहले उसमें आग लग गई और कई वाहन नीचे नदी में गिर गए।

जब पुल ढहा तो लगभग सात निर्माण श्रमिक और तीन से चार नागरिक वाहन उस समय ब्रिज पर मौजूद थे। बड़े पैमाने पर हताहत होने की जानकारी सामने आई है। घटना के बाद पुल को वाहनों की आवाजाही के लिए बंद कर दिया गया है। अधिकारियों ने सुरक्षा कारणों से दोनों दिशाओं में जाने वाली सभी लेन बंद कर दी हैं। घटना स्थल पर रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। चोटों और हताहतों के बारे में अधिक जानकारी की प्रतीक्षा है।

1.6 मील लंबा है यह ब्रिज

बता दें कि मैरीलैंड के बाल्टीमोर में जो ब्रिज है उसकी लंबाई 1.6 मील (2.57 किमी) है। इसका नाम फ्रांसिस स्कॉट ब्रिज है। फ्रांसिस स्कॉट की के नाम पर बने इस पुल को 1977 में खोला गया था। माना जा रहा है कि हादसे के दौरान ब्रिज पर लगभग 7 लोग मौजूद थे। इसका एक लाइव वीडियो यूट्यूब पर पोस्ट किय गया है, जिसमें एक जहाज को पुल से टकराते हुए देखा जा सकता है। जैसे ही जहाज पुल से टकराता है उसके ठीक तुरंत बाद उसके कई हिस्से पटप्सको नदी में गिर जाते है। 

सात लोगों की तलाश जारी

बाल्टीमोर सिटी अग्निशमन विभाग ने दुर्घटना को बड़ा बताया और कहा कि कर्मचारी नदी में सात लोगों की तलाश में जुटे हुए है। बाल्टीमोर अग्निशमन विभाग के संचार निदेशक केविन कार्टराईट ने रॉयटर्स को बताया, ‘हम नदी में सात लोगों की तलाश कर रहे हैं।’

बाल्टीमोर पुलिस ने कहा कि उन्हें मंगलवार सुबह 1:35 बजे घटना की सूचना मिली थी। जहाज पर सिंगापुर का ध्वज लगा हुआ था। जहाज का पंजीकृत मालिक ग्रेस ओशन पीटीई लिमिटेड है और प्रबंधक सिनर्जी मरीन ग्रुप है। सिंगापुर के झंडे वाला कंटेनर जहाज पुल के एक खंभे से टकरा गया और दो पायलटों सहित उसके सभी चालक दल के सदस्य इसमें सवार थे।

Previous articleरेखा पात्रा को PM मोदी ने किया फोन…. Public Live
Next articleछिंदवाड़ा लोकसभा सीट से नकुलनाथ ने भरा नामांकन, पिता कमलनाथ, मां और पत्नी रहीं साथ Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।