भाजपा की चौखट पर फिर दस्तक दे रहे चंद्रबाबू नायडू Public Live

0
15

भाजपा की चौखट पर फिर दस्तक दे रहे चंद्रबाबू नायडू

PublicLive.co.in

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से पहले राजनैतिक दलों के बीच गठबंधन और आवाजाही का दौर चल रहा है। खबर है कि आंध्र प्रदेश में एन चंद्रबाबू नायडू के नेतृत्व वाली तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) एक बार फिर से एनडीए में शामिल हो सकती है। पूर्व मुख्यमंत्री आज दिल्ली के दौरे पर आ रहे हैं, जिससे इन अटकलों को और बल मिला है। सूत्रों के मुताबिक, चंद्रबाबू नायडू की टीडीपी और बीजेपी के बीच गठबंधन को लेकर सहमति बन गई है। दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात में दोनों दलों के बीच शीट शेयरिंग पर बात होगी और इसके बाद गठबंधन का ऐलान किया जा सकता है।

जानकारी के मुताबिक, आंध्र प्रदेश के विभाजन के बाद अब वहां लोकसभा की कुल 25 सीटे हैं। खबर है कि बीजेपी ने यहां 10 सीटें मांगी हैं। हालांकि टीडीपी पहले ही अभिनेता से नेता बने पवन कल्याण की जनसेना के साथ गठबंधन कर चुकी है। पार्टी ने जनसेना के लिए लोकसभा की 3 सीटें छोड़ने का ऐलान किया है। ऐसे में बीजेपी को 10 सीटें देना टीडीपी के लिए मुश्किल प्रतीत हो रहा है।बता दें कि यह पहली मौका नहीं जब यह तीनों दल साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे। इससे पहले वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में भी आंध्र प्रदेश में टीडीपी, जनसेना और बीजेपी ने मिलकर चुनाव लड़ा था। हालांकि इसके बाद नायडू ने एनडीए से नाता तोड़ लिया था। संभवत: इसी वजह से बीजेपी अब गठबंधन पर फैसले को खासा मोलभाव कर रही है। 

Previous articleद्वारका एक्सप्रेसवे शुरु होने पर बनी सहमति, अं‎तिम रूप देने में जुटे अ‎धिकारी Public Live
Next articleयमन के राष्ट्रपति परिषद ने प्रधानमंत्री माईन को किया बर्खास्त  Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।