भाजपा में जा सकते हैं दरबार और पटेल Public Live

0
46

भाजपा में जा सकते हैं दरबार और पटेल

PublicLive.co.in

भोपाल । लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस व अन्य पार्टियों के नेताओं से बात कर भाजपा की सदस्यता दिलाने का प्रयास किया जा रहा है। इंदौर में भी कांग्रेस के बड़े नाम रहे पूर्व विधायक अंतरसिंह दरबार और मोतीसिंह पटेल को लेकर मंथन चल रहा है। हालांकि दरबार को लेकर विधायक व कुछ स्थानीय नेताओं की आपत्ति है।

लोकसभा चुनाव के पहले पार्टी चाहती है कि कांग्रेस के नाराज नेताओं को पार्टी की सदस्यता दिलाई जाए। इसके चलते इंदौर में भी कई नामों पर भाजपा संगठन में मंथन चल रहा है। बड़े नामों में महू के पूर्व विधायक दरबार प्रमुख हैं, जो विधानसभा का चुनाव निर्दलीय लड़े थे और 62 हजार वोट लेकर आए। उनके साथ चार जिला पंचायत सदस्य हैं तो जनपद सदस्यों व सरपंचों की संख्या भी अच्छी है। इसके अलावा राजपूत समाज में पैठ है। हालांकि दरबार के भाजपा में आने की भनक लगने पर विधायक उषा ठाकुर और कुछ पदाधिकारियों ने आपत्ति दर्ज कराई कि इससे भाजपा के पुराने राजपूत नेताओं की राजनीति पर प्रभाव पड़ेगा। वे सहकारिता के क्षेत्र में भी दखल रखते हैं तो पार्टी में आने का उन्हें कभी लाभ भी दिया जाएगा। ऐसे में सहकारिता की राजनीति करने वाले अन्य नेताओं का नुकसान हो सकता है। दूसरी ओर, इंदौर दुग्ध संघ के अध्यक्ष मोतीसिंह पटेल भी भाजपा की सूची में मजबूत नाम है। पार्टी के पास कलोता समाज का मजबूत नेता नहीं है। उनके आने से ये कमी दूर हो जाएगी। विधायक मनोज पटेल से भी उनके संबंध अच्छे हैं। दोनों ही नेताओं को इसका फायदा हो सकता है

Previous articleभारत सरकार ने फिनटेक कंपनी भारतपे को भेजा नोटिस Public Live
Next articleमजबूती के साथ  खुला शेयर बाजार,  सेंसेक्स 350 चढ़ा, निफ्टी 22000 के पार Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।