भारत से इजराइल जाने वाले मजदूरों को ‎मिलेगा एक लाख से ऊपर वेतन Public Live

0
13

भारत से इजराइल जाने वाले मजदूरों को ‎मिलेगा एक लाख से ऊपर वेतन

PublicLive.co.in

नई दिल्ली । भारत से इजराइल में काम करने जा रहे मजदूरों को एक लाख रुपये से ऊपर वेतन ‎मिलेगा। इसके ‎लिए जमकर आवेदन आए हैं। इसी सिलसिले में 30 जनवरी को लखनऊ के अलीगंज में बने गवर्नमेंट आईटीआई कॉलेज में उन लोगों को वॉक इन इंटरव्यू के लिए बुलाया गया, ‎जिन्होंने हाल ही में इजराइल जाकर काम करने के लिए रजिस्ट्रेशन कराए थे। एक अधिकारी ने पिछले दिनों मीडिया से बात करते हुए बताया था कि अब तक 3080 श्रमिकों को इजराइल में नौकरियों के लिए चुना गया है। गौरतलब है कि गाजा के साथ इजराइल के युद्ध के कारण उसे पर्याप्त संख्या में मजदूर नहीं मिल रहे हैं, जिसकी वजह से वह भारत से श्रमिकों का आयात कर रहा है। हाल ही में यूपी सरकार ने इजराइल जाकर कंस्ट्रक्शन का काम करने वाले श्रमिकों के लिए 10000 वैकेंसी जारी की थी, जिसके मुताबिक ये भर्ती की जा रही है। भारत से इजराइल जाकर काम करने के लिए श्रमिकों ने जमकर आवेदन किया। हजारों की संख्या में लोगों ने कॉलेज पहुंचकर रजिस्ट्रेशन कराए थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इजराइल में काम करने के लिए भारत के कई हिस्सों से लोगों ने अप्लाई किया है।

आवेदनों में शटरिंग, आयरन बेंडिंग, सिरेमिक टाइलिंग या प्लास्टर में स्किल्ड मजदूर आवेदन कर रहे हैं। यूपी सरकार ने इस नौकरी के लिए विज्ञापन जारी किए थे। विज्ञापन के मुताबिक, शटरिंग कॉरपेंटर के लिए 3,000, आयरन बेंडिंग के लिए 3,000, सिरेमिक टाइलिंग के लिए 2,000 और प्लास्टर का काम करने के लिए भी 2,000 वैकेंसी जारी की गई थी। गौरतलब है ‎कि इजराइल जाने वाले श्रमिकों के लिए इजराइल सरकार की एजेंसी जनसंख्या, आव्रजन और सीमा प्राधिकरण वहां जाकर काम करने वाले भारतीय मजदूरों को हर महीने 1,36,000 रुपये से 1,37,000 रुपये के बीच सैलरी देगी। इसके अलावा, 15,000 रुपये का फंड बोनस भी दिया जाएगा। 

Previous articleVivo अपने ग्राहकों के लिए मार्केट में उतारेगा एक नया Smartphone, इस फोन का होगा स्पेशल एडिशन? Public Live
Next articleविश्वविद्यालय श्रेष्ठ मानव का विकास करे: राज्यपाल पटेल Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।