मंदिर भी नहीं सुरक्षित, सोने-चांदी के आभूषण तथा आंख चुराई, सुरक्षा में लगे सीसीटीवी कैमरे भी ले उड़े Public Live

0
16

मंदिर भी नहीं सुरक्षित, सोने-चांदी के आभूषण तथा आंख चुराई, सुरक्षा में लगे सीसीटीवी कैमरे भी ले उड़े

PublicLive.co.in

अनूपपुर ।   अनूपपुर जिले के कोतमा थाना क्षेत्र अंतर्गत अब चोरों के खौफ से मंदिर भी नहीं बचे हैं। चोरों ने मंदिर का ताला तोड़ते हुए यहां भगवान के सोने-चांदी के आभूषण पार कर दिए। इसकी शिकायत मंदिर के पुजारी ने कोतमा थाने में दर्ज कराई है। बता दें कि कोतमा थाना क्षेत्र के नगर के वार्ड क्रमांक 2 पुरानी टॉकीज के पास चोरों ने मंगलवार रात्रि को मां शारदा मंदिर तथा काली मंदिर परिसर का ताला तोड़ दिया। चोर यहां से मां शारदा और मां काली के प्रतिमा पर लगे हुई सोने की चार आंख, दो नग सोने की बिंदिया तथा दान पेटी में रखी नगदी सहित यहां लगे हुए सीसीटीवी कैमरा भी चोरों ने पार कर दिया। घटना की सूचना सुबह मंदिर के पुजारी चंदन को लगी जो सुबह पूजा करने आए। चोरी की जानकारी मंदिर समिति एवं नगर वासियों को लगते ही हलचल मच गई। 

शहडोल से जांच के लिए पहुंची टीम

थाना प्रभारी व पुलिस बल के द्वारा मौके पर पहुंचकर जांच निरीक्षण की गई। चोरी की गंभीरता को देखते हुए शहडोल से फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट की टीम ने भी घटना स्थल की जांच की। 

पुलिस ने अपराध दर्ज कर शुरू की जांच

शिकायत पर पुलिस ने चोरों के खिलाफ धारा 457, 380 आईपीसी में केस दर्ज करते हुए चोरों की तलाश में जुट गई है। मंदिर के पुजारी चंदन मंगलवार रात 10:00 बजे गेट बंद कर घर चले गए थे। सुबह मंदिर में पूजा करने आए तो देखा कि मंदिर के मुख्य द्वार में ताला लगा हुआ है, लेकिन अंदर वाले दरवाजे का ताला टूटा हुआ है एवं दान पेटी का भी ताला टूटा हुआ है। देवी प्रतिमा की आंख एवं बिंदी चोरी हो गई। साथ ही दान पेटी से नगदी व रुपये भी गायब थे। मंदिर में लगे तीन कैमरे को भी चोरों द्वारा तोड़कर मंदिर के पास कुछ दूरी में फेंक कर भाग गए।। चोरी की सूचना पर नगर पालिका अध्यक्ष अजय सराफ ने मंदिर पहुंचकर जानकारी ली एवं थाना प्रभारी को इसकी जानकारी देते हुए कार्रवाई किए जाने की बात कही।

Previous articleयूपी पुलिस में सिपाही भर्ती परीक्षा के एडमिट कार्ड  Public Live
Next articleमुफ्त में शराब और खाना नहीं खिलाने पर होटल संचालक को उतारा मौत के घाट, परिजनों को भी धमका रहे Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।