महाकालेश्वर मंदिर का पेज हुआ हैक! पुलिस ने दर्ज की FIR Public Live

0
13

महाकालेश्वर मंदिर का पेज हुआ हैक! पुलिस ने दर्ज की FIR

PublicLive.co.in

उज्जैन ।    सोशल मीडिया पर एक खबर तेजी से वायरल हो रही है कि विश्व प्रसिद्ध श्री महाकालेश्वर मंदिर का सोशल मीडिया पर चलने वाला ऑफिशल पेज हैक हो चुका है। वायरल हो रही इस खबर को पढ़ने और देखने के बाद इस पर तरह-तरह की प्रतिक्रिया की जा रही हैं। श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति ने हैक हुए पेज से यह कहकर किनारा कर लिया है कि यह पेज श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति का है ही नहीं, बल्कि श्री महाकालेश्वर के नाम पर कोई अन्य व्यक्ति इसे चला रहा था। जबकि श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति द्वारा चलाए जाने वाले सभी ऑफिशल पेज जो की फेसबुक, इंस्टाग्राम, कु और यूट्यूब पर हैं, सभी पूर्णत सुरक्षित हैं। जानकारी देते हुए श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति के प्रशासक संदीप सोनी ने बताया कि सोशल मीडिया पर श्री महाकालेश्वर मंदिर के ऑफिशल पेज के हेक होने की जो भी खबर चल रही है, वह पूरी तरह गलत है। सोशल मीडिया पर श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति के द्वारा फेसबुक, इंस्टाग्राम, यूट्यूब और कु पर जो भी अकाउंट संचालित किए जाते हैं, वह पासवर्ड प्रोटेक्टेड हैं और इन अकाउंट को किसी ने हैक नहीं किया है। सोनी ने बताया कि श्री महाकालेश्वर मंदिर के नाम से गलत तरीके से चलाए जाने वाले पेज की शिकायत पुलिस को कर दी गई है।

पेज पर डाली गई थी आपत्तिजनक पोस्ट

बताया जाता है कि ज्योतिर्लिंग श्री महाकालेश्वर उज्जैन के नाम से संचालित एक फर्जी फेसबुक पेज पर आपत्तिजनक पोस्ट डाली गई थी। इसके बारे में सोशल मीडिया पर यह कहा जा रहा था कि यह पेज श्री महाकालेश्वर मंदिर का ऑफिशियल पेज है। लेकिन श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति के जिम्मेदारों ने इस बात की जानकारी लगते ही तुरंत इस पोस्ट का खंडन किया और अपने ऐसे सभी ऑफिशियल सोशल मीडिया अकाउंट्स जिसका संचालन श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति द्वारा किया जाता है, उनके स्क्रीनशॉट मीडिया तक पहुंचाने के साथ ही यह भी बताया है कि श्री महाकालेश्वर मंदिर का ऑफिशियल पेज हैक नहीं हुआ है। पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा का कहना है कि श्री महाकालेश्वर मंदिर के नाम पर किसी व्यक्ति ने फेसबुक पर एक पेज बनाया था, जिसका श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति से कोई लेना-देना नहीं है। इस पेज पर डाली जा रही आपत्तिजनक पोस्ट को रोकने के लिए कार्रवाई की जा रही है। वैसे इस मामले मे भादवि की धारा-295 के साथ ही आईटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया जा रहा है।

मामला हुआ दर्ज

महाकाल मंदिर के नाम से एक फर्जी फेसबुक पेज जो ज्योतिर्लिंग श्री महाकालेश्वर उज्जैन के नाम से है। इस स्टोरी पर आपत्तिजनक पोस्ट किए जाने की सूचना से थाना महाकाल पर अपराध क्रमांक 58/24 धारा-188 आईपीसी और 67 आईटी एक्ट का पंजीबद् कर विवेचना में लिया गया है। उक्त फर्जी नाम से बना फेसबुक पेज महाकाल मंदिर समिति द्वारा संचालित नहीं किया जाता है। मामले की तकनीकी जानकारी प्राप्त करने और फर्जी फेसबुक पेज को डिलीट करने हेतु नोडल ऑफिसर फेसबुक को मेल किया गया है। नोडल ऑफिसर फेसबुक से जानकारी प्राप्त होने पर उज्जैन पुलिस द्वारा कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Previous articleपरीक्षा की तैयारी सहजता से नियमित रूप से करें, इससे रहेंगे तनाव रहित Public Live
Next articleसिकल सेल रोग के साथ 2047 के बाद कोई बच्चा जन्म नहीं ले : राज्यपाल पटेल Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।