महाशिवरात्रि पर इन 4 शिव मंदिरों में पार्टनर संग टेकें माथा, 7 जन्म तक नहीं टूटेगी जोड़ी Public Live

0
19

महाशिवरात्रि पर इन 4 शिव मंदिरों में पार्टनर संग टेकें माथा, 7 जन्म तक नहीं टूटेगी जोड़ी

PublicLive.co.in

रांची के चुटिया स्थित सुरेश्वरधाम में शिवलिंग की स्थापना की गई. इस मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा काशी के पुरोहितों द्वारा की गयी है. इस शिवलिंग की ऊंचाई 108 फीट है. बता दें कि कर्नाटक के कौटिल्य लिंगेश्वर मंदिर में जो शिवलिंग है उसकी ऊंचाई भी 108 फीट ही है. कर्नाटक के मंदिर की तर्ज पर ही रांची में भी भव्य शिवलिंग की स्थापना की गयी है. कहा जाता है कि यहां पर जोड़ा साथ में मन्नत मंगता है तो उसकी मन्नत जरूर पूरी होती है.

रांची के नामकोम स्थित मराशिलि पहाड़ है. इसे शिव धाम के नाम से भी जाना जाता है. दरअसल, इस पहाड़ के ऊपर शिव भगवान का स्वम्भू मौजूद है. यहां पर मन्नत मांगने के लिए महिलाएं दूर-दूर से आती है. सिर्फ रांची नहीं बल्कि बंगाल, छत्तीसगढ़ और यूपी तक के लोग यहां पर माथा टेकने आते हैं. यहां पर लोगों की गहरी आस्था है और कई लोगों की मन्नत मात्र 6 महीने के अंदर ही पूरी हो गई है.

शिव मंदिर की बात हो और रांची के पहाड़ी मंदिर की बात ना हो ऐसा हो ही नहीं सकता. यह रांची का सबसे पुराना शिव मंदिर है. कहा जाता है कि इस पहाड़ पर कभी अंग्रेज क्रांतिकारियों को फांसी पर लटकाया करते थे. आज यहां पर भोलेनाथ का सबसे पुराना शिवलिंग है और महाशिवरात्रि पर यहां का नजारा देखते ही बनता है. यहां पर दंपति धागा बांधकर 7 जन्म तक साथ रहने की मन्नत मांगते हैं

रांची से 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है अंगराबड़ी शिव मंदिर. कहा जाता है कि इसे एक दंपति ने बनवाया था. यहां पर लोगों की बहुत ही गहरी आस्था है. खासकर पति की लंबी आयु के लिए महिलाएं यहां मन्नत मांगती हैं और कहा जाता है कि यहां पर हर मन्नत पूरी होती है. खासकर महाशिवरात्रि के मौके पर यहां लोगों का जमावड़ा लगा रहता है.

Previous articleराशिफल: जानिए, कैसा रहेगा आपका आज का दिन (31 जनवरी 2024) Public Live
Next articleहर दुख से पाना चाहते हैं छुटकारा, इस तरह करें नवग्रह शांति का एक उपाय, जीवन में जल्द दिखेंगे बदलाव Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।