मामले में एक और वाद दायर, मस्जिद को बताया मंदिर Public Live

0
15

मामले में एक और वाद दायर, मस्जिद को बताया मंदिर

PublicLive.co.in

मथुरा । कान्हा की नगरी मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मभूमि-ईदगाह प्रकरण में एक नया वाद मथुरा की सिविल जज सीनियर डिवीजन कोर्ट में दायर किया गया है। इसमें राधारानी को भी पक्षकार बनाया गया है। वृंदावन के कथावाचक कौशल किशोर ठाकुर इसमें पक्षकार हैं। उन्होंने शाही ईदगाह मस्जिद को मंदिर होने का दावा किया है। बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष किशन सिंह उनके अधिवक्ता हैं। कोर्ट ने वाद पर सुनवाई के बाद उसे स्वीकार करते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट में लंबित इसी प्रकार के अन्य 18 वादों में सुनवाई के लिए समायोजित करने का आदेश जारी करते हुए फाइल ट्रांसफर कर दी है।

पक्षकार कथावाचक कौशल किशोर ठाकुर के अधिवक्ता किशन सिंह द्वारा सिविल जज सीनियर डिवीजन की अदालत में वाद प्रस्तुत किया गया। इसमें वाद कर्ता कौशल किशोर ठाकुर के अलावा सनातन धर्म रक्षा पीठ श्रीकृष्ण जन्मभूमि स्थान सहित राधा रानी को भी पक्षकार बनाया गया है। कौशल किशोर ने बताया कि श्रीराधारानी की तरफ से सुप्रीम कोर्ट की अधिवक्ता रीना एन सिंह केस की पैरवी करेंगी। शाही ईदगाह मस्जिद कमेटी के सचिव व अधिवक्ता तनवीर अहमद ने वाद को लेकर सवाल खड़ा किया है। उन्होंने कहा कि लगातार एक ही मामले को लेकर वाद दायर किए जा रहे हैं। एक-दूसरे की नकल कर वाद दायर किए जा रहे हैं। सभी वाद आधारहीन हैं। कोई भी दस्तावेजी कागजात पेश नहीं करते हैं, जो लोग वाद दायर कर रहे हैं, वह जन्मभूमि ट्रस्ट के पदाधिकारी नहीं हैं, उनको वाद दायर करने का विधिक अधिकार भी नहीं है। कोर्ट में इस बात को रखा जाएगा।

Previous articleकांग्रेस को जीतने लायक उम्मीदवारों के लाले Public Live
Next articleजियो ने पेश किया नया मशीन लर्निंग प्लेटफॉर्म जियो-ब्रेन Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।