मुरम की खदानों पर अवैध उत्खनन के खिलाफ प्रशासन का छापा, JCB-डंपर-ट्रैक्टर और लोडर सहित दस वाहन जब्त Public Live

0
31

मुरम की खदानों पर अवैध उत्खनन के खिलाफ प्रशासन का छापा, JCB-डंपर-ट्रैक्टर और लोडर सहित दस वाहन जब्त

PublicLive.co.in

ग्वालियर ।    ग्वालियर में खनिज पदार्थों के अवैध उत्खनन के खिलाफ जिले में बुधवार को बड़ी कार्रवाई हुई है। जिला प्रशासन, खनिज विभाग और पुलिस की संयुक्त टीम ने छापामार कार्रवाई कर मुरम के अवैध उत्खनन में लगे एक जेसीबी, चार डम्पर, पांच ट्रैक्टर व एक लोडर सहित कुल 10 वाहन जब्त किए हैं। साथ ही खनिज अधिनियम के तहत पुलिस थाने में प्रकरण दर्ज कराए गए हैं। दो दिन पहले अवैध खुदाई से हुए गहरे गड्ढे में गिरकर दो वर्ष की एक बच्ची की मौत हो गई थी। जबकि उसकी मां की हालत अभी भी गम्भीर बनी हुई है। नवागत कलेक्टर रुचिका चौहान ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद अधिकारियों की पहली बैठक में अवैध उत्खनन के खिलाफ विशेष मुहिम चलाने के निर्देश दिए थे। इसी कड़ी में यह पहली कार्रवाई की गई है। अधिकारियों की संयुक्त टीम ने मऊ-विक्रमपुर क्षेत्र में छापामार कार्रवाई की।

इस दौरान अवैध उत्खनन करते पाए गए 10 वाहन जब्त किए हैं। जब्त किए गए वाहनों को पुलिस थाना महाराजपुरा में पुलिस अभिरक्षा में रखवाया गया है। इस कार्रवाई के लिये गई संयुक्त टीम ने एसडीएम ग्वालियर सिटी अतुल सिंह, एसडीएम मुरार,अशोक सिंह चौहान, खनिज अधिकारी प्रदीप भूरिया, सहायक खनिज अधिकारी राजेश गंगेले व घनश्याम सिंह यादव एवं संबंधित तहसीलदार, आरआई, पटवारी एवं पुलिस बल शामिल था। जिला प्रशासन का कहना है कि अवैध उत्खनन के खिलाफ विशेष मुहिम लगातार जारी रहेगी। अवैध उत्खनन में लिप्त लोगों के खिलाफ खनिज अधिनियम एवं शासन के अन्य प्रावधानों के तहत कठोर कार्रवाई की जायेगी। साथ ही अवैध उत्खनन करते हुए जो वाहन जब्त होंगे उन्हें विधिक प्रक्रिया के अनुसार राजसात करने की कार्रवाई भी की जायेगी।

Previous articleप्रदेश की 36 लाख से अधिक महिलाओं को धुएं से मिली मुक्ति Public Live
Next articleआंगनबाड़ियों का नियमित निरीक्षण करें अधिकारी: राजवाड़े Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।