मुस्लिम देश इंडोने‎‎शिया की करेंसी में आज भी भगवान गणेश ‎विराजमान Public Live

0
23

मुस्लिम देश इंडोने‎‎शिया की करेंसी में आज भी भगवान गणेश ‎विराजमान

PublicLive.co.in

नई दिल्ली । भारत के मु‎स्लिम पड़ोसी देश इंडोनेशिया की करेंसी में भगवान गणेश की छ‎वि ‎विराजमान है। बता दें ‎कि इंडोने‎शिया दुनिया का सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाला देश है। यहां की कुल आबादी में करीब 87 फ़ीसदी मुसलमान हैं और इनकी संख्या करीब 23 करोड़ के आसपास है। इंडोनेशिया भले ही सर्वाधिक मुस्लिम आबादी वाला देश हो और इस्लाम को मानता हो, लेकिन लंबे वक्त तक हिंदुओं के आराध्य भगवान गणेश ने इस देश को सहारा दिया है। यहां पर भगवान गरुण का दबदबा तो आज भी कायम है। जानकारी के अनुसार इंडोनेशिया की करेंसी को रुपैया के नाम से जाना जाता है और 20 हजार की करेंसी पर भगवान गणेश की तस्वीर छप चुकी है। इस नोट को छापने की शुरुआत साल 1998 में हुई थी। नोट पर एक तरफ भगवान गणेश तो दूसरी तरफ इंडोनेशिया के स्वतंत्रता सेनानी हजार देवेंत्रा की तस्वीर छपी है। इंडोनेशिया में भगवान गणेश को कला, विज्ञान और शिक्षा का प्रतीक माना जाता है। जिस वक्त भगवान गणेश की तस्वीर करेंसी पर छापने का फैसला लिया गया था, उस वक्त इंडोनेशिया की अर्थव्यवस्था बहुत बुरे दौर से गुजर रही थी। बताया जा रहा है ‎इंडो‎ने‎शिया को इस करेंसी ने काफी सहारा दिया।

हालांकि इंडोनेशिया, अब भगवान गणेश की तस्वीर वाली करेंसी छापना बंद कर चुका है। साल 2008 में आखिरी बार इस करेंसी की छपाई हुई थी, लेकिन ये नोट 2018 तक चलन में थे। एक और दिलचस्प बात यह है कि इंडोनेशिया की सरकारी विमान कंपनी का नाम गरुण एयरलाइंस है। जो ‎कि पवित्र गरुड़ पक्षी के नाम पर रखा गया है। हिंदू धर्म में भी गरुड़ देवता की पूजा की जाती है। आपको बता दें कि इंडोनेशिया में करीब 1.69 फीसदी हिंदू आबादी भी रहती है। जिसमें से लगभग 90 फ़ीसदी आबादी अकेले बाली में रहती है। इंडोनेशिया के धार्मिक मामलों के मंत्रालय के मुताबिक देश में कुल 87.02% मुसलमान जिसमें 99 फीसदी सुन्नी, 7.43 प्र‎तिशत ईसाई, 1.69 प्र‎तिशत हिंदू, .073 प्र‎तिशत बौद्ध और बाकी अन्य धर्मों के लोग रहते हैं।

Previous articleबिहार में एनडीए लंबी छलांग लगाएगी Public Live
Next articleईरान के अंतरिक्ष प्लान से पश्चिमी देश घबराए, तीन उपग्रहों की लां‎‎चिंग पर हुई आलोचना Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।