Home India मोबाइल पर छात्राओं को अश्लील फिल्म दिखा, यौन शोषण करने वाला प्रिंसिपल...

मोबाइल पर छात्राओं को अश्लील फिल्म दिखा, यौन शोषण करने वाला प्रिंसिपल गिरफ्तार Public Live

0
28

मोबाइल पर छात्राओं को अश्लील फिल्म दिखा, यौन शोषण करने वाला प्रिंसिपल गिरफ्तार

PublicLive.co.in


Updated on 27 Mar, 2024 06:00 PM IST BY KHABARBHARAT24.CO.IN

बुलंदशहर । उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में पुलिस ने एक ऐसे सरकारी प्राइमरी स्कूल के प्रिसिंपल को गिरफ्तार किया है जो मोबाइल पर छात्राओं को अश्ली फिल्म दिखाकर उनका यौन शोषण करता था। इस प्रिसिंपल का नाम प्रताप सिंह बताया जा रहा है। 

पुलिस में दर्ज शिकायत के मुताबिक प्रताप सिंह स्कूल की छात्राओं को गलत तरीके से छूता था। उसकी इस हरकत के कारण 9 से 12 साल की उम्र की सभी लड़कियों ने स्कूल जाना बंद कर दिया था। पुलिस में की गई प्रिसिंपल की शिकायत में यह भी कहा गया है कि वह मोबाइल में गंदी-गंदी फिल्में दिखाकर छात्रों से कहता था कि अगर वे इस बारे में अपने घर पर बताएंगी तो वह उन्हें परीक्षा में फेल कर देगा। 

पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) रोहित मिश्रा ने बताया कि अरनिया पुलिस स्टेशन में भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं और यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (पाक्सो) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। 

बता दें कि इस तरह का मामला हाल ही में राजस्थान के धोलपुर में भी सामने आया था। यहां एक सरकारी स्कूल के टीचर को छात्रा से छेड़छाड़ के मामले में सस्पेंड कर दिया गया था। इसके साथ ही मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में निलंबन काल के दौरान उपस्थिति होने के आदेश जारी किए गए थे। बता दें कि जिले के बसई नबाव कस्बे के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में प्रैक्टिकल के दौरान एक टीचर ने बारहवीं क्लास में पढ़ने वाली छात्रा से खेलकूद कक्ष के पास छेड़छाड़ की थी। इसके बाद आरोपी टीचर उसी दिन छात्रा के घर पहुंचने से पहले ही उसके परिजनों के पास पहुंच गया और छात्रा के परिजनों को घटना के बारे में बता कर अपनी गलती की माफी मांगी थी।

Previous article दो दिन बाद बदलेगा मौसम, हो सकती है बारिश  Public Live
Next articleडिफॉल्ट होने का खतरा मंडराने लगा दुनिया के ताकतवार मुल्क पर  Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।