मोहन यादव ने किया रानी अवंती बाई विश्वविद्यालय का भूमिपूजन, विद्यासागर के नाम पर खुलेगा कालेज Public Live

0
23

मोहन यादव ने किया रानी अवंती बाई विश्वविद्यालय का भूमिपूजन, विद्यासागर के नाम पर खुलेगा कालेज

PublicLive.co.in

सागर ।    मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव बुधवार को सागर पहुंचे। जहां सौ करोड़ की लागत से बनाए जा रहे संत रविदास मंदिर का निरीक्षण किया और पीटीसी ग्राउंड में आयोजित मुख्य कार्यक्रम में सभा को संबोधित किया। साथ ही सागर में रानी अवंती बाई राजकीय विश्वविद्यालय का भूमिपूजन कर अन्य निर्माण कार्यो का शिलान्यास और लोकार्पण भी किया। सागर में डॉ. हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय घोषित किए जाने के बाद सागर में एक राजकीय विश्वविद्यालय की मांग की जा रही थी, जिसको पूरा करते हुए सागर में सीएम डॉ. मोहन यादव ने नए विश्वविद्यालय का भूमिपूजन कर विश्वविद्यालय का विधिवत शुभारम्भ किया।

सभा को संबोधित करते हुए सीएम डॉ. मोहन यादव ने कहा कि सागर शिक्षा की धरती है। यहां के सपूत डॉ. हरि सिंह गौर ने अपनी पूरी कमाई दान कर इस विश्वविद्यालय का निर्माण किया था। ऐसे महापुरुष को भारत रत्न दिए जाने की मांग को भी मेरा समर्थन है। सीएम मोहन यादव ने सागर में एक  आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा की। मकरोनिया और बंडा में पीजी कॉलेज खोलने की भी मुख्यमंत्री मोहन यादव ने मंजूरी दी। मुख्यमंत्री मोहन यादव ने कहा कि तुरंत स्वास्थ सेवा के मामले में हमने एयर एंबुलेंस शुरू की है, जिसका लाभ सागर को भी मिलेगा। सीएम मोहन यादव ने मंच से ही किडनी की बीमारी से पीड़ित बालक मोहित राजपूत का इलाज सरकार द्वारा कराने की घोषणा की।

Previous articleचाचा पीएम बने तो भतीजों की हुई वतन वापसी Public Live
Next articleडाबोलिन हवाई अड्डा से उड़ानों का प‎रिचालन जारी रहेगा: अधिकारी Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।