रंग पर्व के उपलक्ष्य में महिलाओं ने खेली गुलाल और फूल की होली Public Live

0
17

रंग पर्व के उपलक्ष्य में महिलाओं ने खेली गुलाल और फूल की होली

PublicLive.co.in

बिलासपुर । मां सतबहनियां दाई महिला सेवा समिति कुदुदण्ड की महिलाओं ने गेंदा फूल और रंग बिरंगे गुलाल से होली मिलन समारोह का आनंद उठाया। महिला सेवा समिति के सदस्यों ने हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी सूखा होली खेलने का निर्माण लिया। सबसे पहले जमुना सोनी और समिति के सदस्यों ने मां सतबहनियां दाई और मां जगत जननी दुर्गा जी में  दीप प्रज्ज्वलित कर पूजा अर्चना कर फूल और गुलाल लगाकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। आज होली महोत्सव का आयोजन किया गया जिसमें मोहल्ले के सभी महिलाओं ने बड़ी चढकऱ हिस्सा लिया। सभी महिलाओं ने आपस में गले मिलकर होली के गीतों में एक दूसरे को गुलाल लगाकर फूलों के साथ होली खेली। राधा रानी के गीतों में खुब झुमें। मोहल्ले से सभी महिलाओं ने होली मिलन समारोह में शामिल हुए।  सतबहनियां मंदिर समिति से जमुना सोनी, सुशीला सोनी, घसनीन यादव, श्यामा उपाध्याय, , इंद्राणी गहलोत, आर. बी. सोनी, मधु मानिकपुरी, शिवानी कश्यप, , काजल कश्यप, सहोदरा सोनी, सरिता वासिंग, रमा तिवारी, रिता वासिंग, आशा दुबे, सीमा चौहान, गंगोत्री निर्मलकर,  अन्नु कश्यप, सुषमा मराठा, गुलेश्वरी सोनी, सुष्मिता सोनी, लक्ष्मीन सोनी, भारती सोनी, सीता कश्यप, शिवकुमारी पाठक, रानी सोनी, गिरजा सोनी, सोनप्रभा मिश्रा, कविता शर्मा, अनिता मरावी आदि महिला सदस्यों ने भाग लिए।

 

Previous articleकान्य कुब्ज ब्राम्हण समाज की बैसवारी फाग का आयोजन  Public Live
Next articleजानिए, कैसा रहेगा आपका आज का दिन (25 मार्च 2024) Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।