रनिंग ट्रेनो मे चोरी करने वाली दो शातिर महिलाओ को जीआरपी ने दबोचा  Public Live

0
68

रनिंग ट्रेनो मे चोरी करने वाली दो शातिर महिलाओ को जीआरपी ने दबोचा 

PublicLive.co.in

भोपाल। भोपाल जीआरपी ने रनिंग ट्रेनो मे चोरी करने वाली दो शातिर महिला आरोपियो को गिरफ्तार कर कई वारदातो को खुलासा किया है। थाना प्रभारी निरीक्षक जहीर खॉन ने जानकारी देते हुए बताया की प्लेटफार्म व रनिंग ट्रेनों में यात्रियों के साथ हो रही चोरी की घटनाओं की रोकथाम और आरोपियो की सुरागशी के लिये विशेष अभियान चलाया जा रहा है। वहीं बीती 23 मार्च को फरियादिया रितु जैन पिता सतेन्द्र जैन (45) निवासी एमआईजी 507 ई-7 अरेरा कालोनी भोपाल ने अपनी शिकायत में बताया था की वह अपने परिजनो को ट्रेन जयपुर एक्स मे बैठाने के लिये रेलवे स्टेशन भोपाल आई थी। ओवर ब्रिज से नीचे उतरते समय यात्रियो की भीड-भाड का फायदा उठाकर किसी आरोपी ने उनके पर्स की चैन खोलकर 18 हजार की नगदी चोरी कर ली थी। मामला दर्ज कर पुलिस ने आसपास लगे सीसीटीवी कैमरो के फुटेज खंगाले जिसमे दो संदिग्ध महिलाये फरियादिया के आसपास मंडराती नजर आई। संदेह के आधार पर पुलिस टीम ने संदिग्ध महिलाओ की तलाश शुरु की। उनकी खोजबीन के दौरान ही टीम को दोनो संदिग्घ महिलाये भोपाल स्टेशन पर घूमती मिली। हिरासत में लेकर पूछताछ पर उन्होने अपनी पहचान कीरता नाडे पिता राकेश नाडे (30 ) और गायत्री पति महेन्द्र कामले (25) दोनो निवासी निजामुद्दीन दरगाह के पास झुग्गी झोपडी निजामुद्दीन दिल्ली के रुप में हुई। सख्ती से पूछताछ करने पर दोनो ने महिला के बैग से नगदी चोरी करने की वारदात का खुलासा कर दिया। आगे की पुछताछ में शातिर महिलाओ ने भोपाल सहित अन्य शहरो में भी ट्रैनो के चोरी की चार घटनाओ को अंजाम देने की बात स्वीकारी है। उनकी निशानदेही पर पुलिस ने चोरी का माल बरामद कर लिया है। शातिर महिलाओ की गिरफ्तारी में निरीक्षक जहीर खान, उप निरी श्वेता सोमकुवँर, प्र आर अनिल सिंह, प्र आर संजय धाकड, प्र आर राजेश शर्मा, प्र आर मल्लिका खान,  आर ज्योति वर्मा, आर रोहित पटेल, आर भगवान की सराहनीय भूमिका रही।

 

Previous articleत्यौहार पर गदर कर रहे युवको ने आरक्षक के साथ की झूमाझटकी Public Live
Next articleओरछा में राज वोट क्लब के संचालक ने बचाई दो मनचले आशिकों की जान, फिर बिना नाम पता बताए चलते बने Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।