राम के नाम पर राजनीति नहीं होनी चाहिए-योगी Public Live

0
10

राम के नाम पर राजनीति नहीं होनी चाहिए-योगी

PublicLive.co.in

लखनऊ । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि हमने राम के नाम पर कभी राजनीति नहीं की। राम हमारे आराध्य हैं। आराध्य के नाम पर राजनीति कैसी। हम तो उनका स्मरण करते हैं। राम के बगैर कोई काम नहीं हो सकता। राम-राम के संबोधन के बिना कोई काम नहीं होता। उठते-जागते, सोते-रोते हर क्षेत्र में राम-राम का संबोधन होता है, लेकिन अयोध्या नहीं जाना है क्योंकि वोट बैंक पर असर पड़ जाएगा। वोट बैंक की राजनीति आप कर रहे हैं, हम लोग नहीं। मंदिर बनने के पहले भी जब न्यायालय का निर्णय नहीं आया था, तब भी हम लोग अयोध्या गए थे और दीपोत्सव का भव्य आयोजन किया था। आज भी जा रहे हैं और आगे भी जाएंगे। इसमें कोई संदेह नहीं होना चाहिए। 

शनिवार को विधानसभा में बजट पर हुई चर्चा का समापन करते हुए मुख्यमंत्री एवं नेता सदन योगी आदित्यनाथ ने आरोप लगाया कि पहले प्रदेश में विभिन्न क्षेत्रों की उपेक्षाएं हुई थीं। उनमें से प्रदेश में संभावनाओं वाला सर्विस सेक्टर क्षेत्र भी था। स्प्रिचुअल टूरिज्म में जो संभावनाएं उत्तर प्रदेश में थीं, पिछली सरकारों ने उसकी सर्वथा उपेक्षा की। उन्होंने कहा कि अयोध्या, काशी, मथुरा-वृन्दावन, बरसाना, गोकुल, गोवर्धन, नैमिषारण्य, विन्ध्यवासिनी धाम, देवीपाटन धाम, नाथ कारिडोर (बरेली), चित्रकूट के लिए सरकार ने बजट में धनराशि की व्यवस्था की है। मुख्यमंत्री पर्यटन संवर्धन योजना में हर विधानसभा क्षेत्र के एक-एक धर्मस्थल को विकसित करने के लिए हमने धनराशि की व्यवस्था बजट में की है। 2025 में 2019 से बेहतर प्रयागराज कुंभ का आयोजन कर सकें। इसके लिए फिर से बजट में धनराशि की व्यवस्था की गई है। प्रयागराज में कुम्भ संग्रहालय की स्थापना हो, इसके लिए भी बजट में धनराशि की व्यवस्था की गई है। 

सीएम ने सपा सरकार को घेरते हुए कहा कि आप तो मथुरा-वृंदावन के लिए भी कुछ नहीं कर पाए थे। आपको वहां जाने में भी डर लगता था। हम लोगों ने दोनों जगह (काशी में सपा सरकार ने ताला बंद किया था और मथुरा में जन्मभूमि में पीछे जो पार्क है, उसमें आप लोगों ने ताला बंद किया था) हमारी सरकार ने दोनों जगह ताले खुलवा दिए। बांके बिहारी मंदिर कॉरिडोर के लिए भी धनराशि की व्यवस्था की गई है। मथुरा की चर्चा के दौरान राधे-राधे का संबोधन कर सीएम ने सभी कि दिल जीत लिया। 

सीएम ने बताया कि निषाद राज गुह्य सांस्कृतिक केन्द्र, श्रृंगवेरपुर के लिए धनराशि की व्यवस्था की गई है। जनपद आजमगढ़ के हरिहरपुर में संगीत महाविद्यालय व महर्षि वाल्मीकि सांस्कृतिक केन्द्र चित्रकूट के लिए धनराशि की व्यवस्था की गई है। तुलसीदास जी की जन्मभूमि राजापुर के लिए भी बजट में धनराशि की व्यवस्था है। विदुर कुटी में भी कार्य कर रहे हैं। वहां के लोग आपकी भावनाओं के अनुरूप कार्य नहीं करेंगे। महाराज विदुर के नाम पर मेडिकल कॉलेज बना रहे हैं। मैं विदुर कुटी गया था। वहां पुनरुद्धार की कार्रवाई कर रहे हैं। बिजनौर को पहचान दे रहे हैं। मैंने वहां रात्रि विश्राम भी किया था। अखिलेश जी कभी बिजनौर नहीं रुके होंगे। वे डरते थे कि पता नहीं चाचा कब कुर्सी न हथिया लें। मुख्यमंत्री रहते कभी वे नोएडा व बिजनौर नहीं गए होंगे। सीएम ने बताया कि हमारी सरकार उदा देवी के नाम पर पीएसी की बटालियन बन रही है। हम लखनऊ के किले को भी ठीक करा रहे हैं। अन्य स्थानों के किलों को भी ठीक कराने जा रहे हैं। यह हमारे हैरेटिज टूरिज्म का हिस्सा है। अयोध्या में अंतरराष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान के लिए बजट की व्यवस्था की है। इन्हें हम तेजी से आगे बढ़ा रहे हैं।

Previous articleसो रहे पति पर पेट्रोल छ‍िड़ककर लगा दी आग, पत्नी हुई गिरफ्तार  Public Live
Next articleमौसम में होगा परिवर्तन, रायपुर में हल्की वर्षा की संभावना, बढ़ सकती है ठंड Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।