रायपुर में एक बार फिर बदला मौसम का मिजाज, सुबह हुई जमकर बारिश, बढ़ी ठंड Public Live

0
10

रायपुर में एक बार फिर बदला मौसम का मिजाज, सुबह हुई जमकर बारिश, बढ़ी ठंड

PublicLive.co.in

राजधानी रायपुर में एक बार फिर मौसम का मिजाज बदल गया है। मौसम विभाग ने सोमवार को बारिश की संभावना जताई है। रविवार को दिनभर अनुकूलता के बाद शाम को आसमान में छाए घने बादलों के बीच तेज हवा चली। देर रात कुछ क्षेत्रों में हल्की बारिश भी हुई। दिन में जहां राजधानी का अधिकतम तापमान 32.2 डिग्री तक रहा, वह अचानक से शाम को दो से तीन डिग्री तक नीचे चला गया। मौसम विभाग ने सोमवार को भी वातावरण इसी तरह बने रहने का अनुमान लगाया है।

मौसम विज्ञानी एपी चंद्रा के अनुसार एक द्रोणिका दक्षिण अंदरूनी कर्नाटक से पश्चिम विदर्भ तक 0.9 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। वहीं, प्रदेश में प्रचूर मात्रा में बंगाल की खाड़ी से नमी युक्त अपेक्षाकृत गर्म हवा का आगमन लगातार जारी है। यही वजह है कि राजधानी रायपुर सहित प्रदेश में मौसम का मिजाज बदला हुआ है। मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में आगामी पांच दिनों में न्यूनतम तापमान में कोई विशेष परिवर्तन होने की संभावना नहीं है। साथ ही अधिकतम तापमान में 48 घंटे के बाद दो से तीन डिग्री की गिरावट होने के आसार हैं, जबकि इसके बाद कोई विशेष परिवर्तन होने की संभावनाएं नहीं हैं।

मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि मंगलवार के बाद न्यूनतम तापमान में क्रमिक वृद्धि का दौर शुरू हो सकता है। रविवार को जिले में दिन का तापमान 32.2 डिग्री के साथ सामान्य से छह डिग्री अधिक रहा। वहीं रात में यह 15.5 डिग्री दर्ज किया गया। राजनांदगांव में यह क्रमश: 33 व 15.6, बिलासपुर में 29.6 व 16.6 और पड़ोसी जिला दुर्ग में यह 29.4 व 13.4 डिग्री रिकार्ड किया गया। कृषि विभाग ने मौसम के बदलाव को देखते हुए किसान को सब्जियों में कीट-रोगों के प्रति नियमित निगरानी करने कहा गया हैं।

 

Previous articleपड़ोसियों के बीच आपसी बात को लेकर हुआ विवाद, युवक की पीठ पर चाकू से किया हमला  Public Live
Next articleईरान के सेब ने गिराए हिमाचली सेब के भाव Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।