राहुल के पास समय नहीं, पीएम मोदी से ‎मिलना सहज : प्रमोद कृष्णम Public Live

0
13

राहुल के पास समय नहीं, पीएम मोदी से ‎मिलना सहज : प्रमोद कृष्णम

PublicLive.co.in

नई दिल्ली । कांग्रेस से बाहर करने के बाद आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा कि राहुल गांधी से अब तक उनकी मुलाकात नहीं हो पाई। जब‎कि पीएम मोदी उनसे सहजता से ‎मिले हैं। शायद राहुल गांधी को लगता है कि मिलना समय की बर्बादी है। वह कम मिलते हैं और उनका स्वभाव भी मिलने का नहीं है। वह यात्रा करते रहते हैं और व्यस्त रहते हैं। उन्होंने आगे कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी से मिलने में मुझे एक सप्ताह से भी कम समय लगा है, ज‎ब‎कि वह देश के पीएम हैं। गौरतलब है ‎कि कांग्रेस ने पार्टी ‎विरोधी बयानबाजी के कारण प्रमोद कृष्णम को 6 साल के ‎लिए पार्टी से बाहर कर दिया है। ‎मिली जानकारी के मुता‎बिक कल्कि धाम पीठाधीश्वर और कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम को कांग्रेस पार्टी ने छह साल के लिए निष्कासित कर दिया है। आचार्य कृष्णम पार्टी नेतृत्व को खरी-खरी सुनाते रहे हैं। उन्होंने राममंदिर की प्राण प्रतिष्ठा का समर्थन करते हुए कांग्रेस के बहिष्कार को दुर्भाग्यपूर्ण बताया था। 

यूपी के संभल में 19 फरवरी को होने वाले कल्कि धाम के शिलान्यास समारोह के लिए प्रमोद कृष्णम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई केंद्रीय मंत्रियों और यूपी के मुख्यमंत्री योगी को भी निमंत्रण दिया था। प्रधानमंत्री मोदी इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले हैं। कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने कहा ‎कि प्रमोद कृष्णम को अनुशासनहीनता व बार-बार पार्टी विरोधी बयानबाजी के कारण निष्कासित किया गया है। निष्कासन का प्रस्ताव उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने भेजा था। 

बताया जा रहा है ‎कि बीते कुछ समय से कृष्णम इं‎डिया गठबंधन के साथ ही कांग्रेस की भी खुलकर आलोचना कर रहे थे। ऐसे में लग ही रहा था कि पार्टी उनके इस खुले व्यवहार को अनुशासनहीनता मानेगी और कोई एक्शन लेगी। रही सही कसर कल्कि धाम के आयोजन में पीएम मोदी के आमंत्रण ने पूरी कर दी। इं‎डिया गठबंधन को लेकर कृष्णम खासे आलोचक रहे। कुछ समय पहले उन्होंने कहा था कि इस गठबंधन का जन्म हुआ तभी वह बीमार हो गया था। पटना में नीतीश कुमार ने इं‎डिया गठबंधन का अंतिम संस्कार कर दिया। मीडिया से बात करते हुए भी आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा कि इं‎डिया गठबंधन नाम की कोई चीज नहीं है। 

Previous articleरामपुर-बरेली से ‎मिला हल्द्वानी हिंसा का कनेक्शन, यूपी पहुंची पु‎लिस Public Live
Next articleपेरू में भारी बारिश के कारण आपातकाल घोषित Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।