रेलवे स्टेशन से महाकाल तक 24 माह की अवधि में बनाना होगा रोप-वे, कंपनी हुई फाइनल Public Live

0
18

रेलवे स्टेशन से महाकाल तक 24 माह की अवधि में बनाना होगा रोप-वे, कंपनी हुई फाइनल

PublicLive.co.in

उज्जैन ।  उज्जैन में बाबा महाकाल के दर्शन करने के लिए देशभर से बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं। महालोक परिसर बनने के बाद श्रद्धालुओं की संख्या में काफी वृद्धि हुई है। श्रद्धालुओं की सुविधा को देखते हुए उज्जैन में लगातार विकास कार्य किए जा रहे हैं। अब रेलवे स्टेशन से महाकाल मंदिर तक पहुंच आसान करने के लिए रोप वे बनाया जा रहा है। रोप वे पौने दो किलोमीटर लंबा होगा, इससे मात्र पांच मिनट में मंदिर पहुंचा जा सकेगा। 153.72 करोड़ रुपये की लागत वाले 12 टावर के इस रोप वे को नेशनल हाईवे लाजिस्टिक मैनेजमेंट लिमिटेड बनवाएगी। इसके निर्माण का लक्ष्य सिंहस्थ-2028 के पहले रखा गया है। सड़क विकास निगम के अधिकारियों का कहना है कि टेंडर प्रक्रिया पूरी कर ली गई है, कंपनी को 24 माह में रोप वे बनाना होगा और उसका संचालन, रखरखाव भी वही करेगी।

महाकालेश्वर मंदिर के पास गणेश कॉलोनी से होगा लिंक

उधर, इसके लिए लोक निर्माण विभाग एवं नेशनल हाईवे लाजिस्टिक्स मैनेजमेंट लिमिटेड के बीच जो अनुबंध हुआ है, उस पर मध्यप्रदेश सरकार की कैबिनेट ने भी अनुमति प्रदान कर दी। उज्जैन में महालोक बनने के बाद  यातायात का दबाव काफी बढ़ गया है। इसी को देखते हुए सरकार ने उज्जैन रेलवे स्टेशन से महाकाल मंदिर तक रोप-वे योजना बनाई थी। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने 24 फरवरी 2022 को रेलवे स्टेशन से महाकाल मंदिर तक रोप वे बनाने की घोषणा की थी। रोप-वे का बोर्डिंग स्टेशन इंदौर गेट रेलवे स्टेशन के समीप माल गोदाम की तरफ बनेगा। दूसरा स्टेशन त्रिवेणी संग्रहालय के सामने पार्किंग स्थल और तीसरा स्टेशन महाकालेश्वर मंदिर के पास गणेश कॉलोनी से लिंक होगा।

Previous articleखजुराहो से अभिनेता अभिषेक बच्चन को उतार सकती है सपा, ऐसा है यहां का चुनावी गणित Public Live
Next articleबेटरप्लेस ने कौशल विकास के लिए यूपी सरकार से समझौता किया Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।