लोकसभा चुनाव को लेकर रेलवे ने बनाई रणनीति Public Live

0
16

लोकसभा चुनाव को लेकर रेलवे ने बनाई रणनीति

PublicLive.co.in

भोपाल । महत्वाकांक्षी इंदौर-खंडवा बड़ी लाइन प्रोजेक्ट के तहत मार्च-24 तक सभी महत्वपूर्ण टेंडर बुलाने की तैयारी शुरू हो गई है। अब तक पातालपानी से बलवाड़ा के बीच काम के टेंडर नहीं हुए हैं और प्रोजेक्ट में यही हिस्सा सबसे दुष्कर है। यह कवायद इसलिए शुरू हो रही है, ताकि लोकसभा चुनाव की आचार संहिता काम में बाधक नहीं बने।

पातालपानी से बलवाड़ा के 65 किलोमीटर लंबे सेक्शन में 21 सुरंगें बनना हैं। यह पूरी तरह पहाड़ी क्षेत्र है, जहां बड़ी लाइन नए अलाइनमेंट के साथ बिछाई जा रही है। सूत्रों का कहना है कि कोशिश है कि मानसून आने से पहले इस सेक्शन के ज्यादातर बड़े काम शुरू हो जाएं। इससे प्रोजेक्ट जल्द पूरा करने में मदद मिलेगी।  

चार हिस्सों में बांटकर होगा काम

– पातालपानी से बेका- 14.69 किमी

– बेका से कुलथाना- 15.11 किमी

– कुलथाना से चोरल- 20.25 किमी

– चोरल से मुख्तियारा बलवाड़ा- 15.11 किमी

इंदौर से खंडवा बड़ी लाइन पांच साल दूर

पातालपानी से बलवाड़ा के बीच बड़ी लाइन बिछाने का काम कम से कम चार से पांच साल लगने का अनुमान है। 2008 में रतलाम-इंदौर-महू-खंडवा-अकोला ब्रॉडगेज परियोजना केंद्र ने मंजूर की थी।

Previous articleइजराइल ने हिजबुल्लाह को दी चेतावनी, उकसाया तो खैर नहीं Public Live
Next articleथाईलैंड में दोस्तों के साथ बैचलर पार्टी करते नजर आए Rakul Preet Singh और Jackky Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।