वोयाजर 1 अंतरिक्ष यान ने भेजे रहस्यमयी सिग्नल  Public Live

0
17

वोयाजर 1 अंतरिक्ष यान ने भेजे रहस्यमयी सिग्नल 

PublicLive.co.in

वॉशिंगटन । अंतरिक्ष की यात्रा पर निकला वोयाजर 1 यान ने वहां से रहस्यमयी सिग्नल भेजने लगा है। सिग्नलों को देखकर यहां पर मौजूद नासा के साइंटिस्ट भी चकित हो गए कि ऐसा कैसे हो सकता है। धरती पर इतनी दूर से सिग्नल कैसे आ सकती है, हालांकि उन्होंने इसकी अपेक्षा नहीं की थी। यान ने नवंबर 2023 में सिग्नल को पृथ्वी पर भेजना शुरू किया था। 

वैज्ञानिकों ने पता किया तो, उस यान पर भेजे गए तीन ऑनबोर्ड कंप्यूटरों में से एक में खराबी निकली, जिसे उड़ान डेटा सबसिस्टम (एफडीएस) कहा जाता है। धरती पर मौजूद नासा के टेलीमेट्री मॉड्यूलेशन यूनिट ने पृथ्वी पर आ रहेसिग्नल को विज्ञान और इंजीनियरिंग के मदद से ट्रैक कर इसे स्टोर किया। नासा के एक इंजीनियर ने इस नए सिग्नल को सफलतापूर्वक डिकोड किया।इस इंजीनियर को मिले डेटा में एक मेमोरी रीडआउट है, जो जानकारी का खजाना है, जिसमें एफडीएस के यात्रा कोड, अंतरिक्ष यान की स्थिति का पता चलता है। इससे उसके धरती के साथ कनेक्शन टूटने के मूल कारण का पता चलता है। यान के धरती पर सिग्नल भेजने को वोयाजर टीम ने प्यार से “पोक” नाम दिया है। 

हाल में वैज्ञीनिकों की टीम ने यान की रीडआउट मेमोरी की काफी बारीकी से अध्ययन किया, जिससे हमारे अंतरिक्ष में होने वाली कई नई घटनाओं के रहस्यों से पर्दा हटा है।नासा का यह वोयाजर-1 पृथ्वी से 24 अरब किलोमीटर से भी अधिक दूरी पर है। वहां से सिग्नल को धरती पर आने में तकरीबन 22.5 घंटे लगते हैं, जिसका अर्थ है कि टीम को यान के लिए अपने कमांड के लिए काफी यात्रा करना पड़ता है। 

Previous articleरंग खेलते समय विशेष सावधानी बरतनी जरूरी  Public Live
Next articleएक बार फिर टल गई नर्सिंग की परीक्षाएं Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।