शिवसेना यूबीटी ने कांग्रेस की नाराजगी को किया नजरअंदाज  Public Live

0
21

शिवसेना यूबीटी ने कांग्रेस की नाराजगी को किया नजरअंदाज 

PublicLive.co.in

मुंबई, महाराष्ट्र में (उद्धव ठाकरे गुट) वाली शिवसेना ने गठबंधन के साथी कांग्रेस की नाराजगी को नजरअंदाज करते हुए लोकसभा चुनाव के लिए अपने 17 उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी है। ऐसा माना जा रहा है कि सूची जारी होने के बाद गठबंधन में खटास आ सकती है।

महाराष्ट्र में शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) ने लोकसभा चुनावों के लिए अपने 17 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी है। शिव सेना (यूबीटी) नेता संजय राउत ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर उम्मीदवारों की लिस्ट जारी करते हुए लिखा, ‘शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे के आशीर्वाद और शिवसेना पार्टी प्रमुख श्री उद्धवजी ठाकरे के आदेश से, शिव सेना के 17 लोकसभा उम्मीदवारों की सूची आ गई है। शिवसेना यूबीटी ने सांगली संसदीय सीट से चंद्रहार पाटिल, बुलढाणा से नरेंद्र खेडेकर, यवतमाल वाशिम से संजय देशमुख, मावल सीट से संजोग वाघेरे पाटिल, हिंगोली से नागेश पाटिल आष्टीकर, संभाजीनगर से चंद्रकात खैरे, धारशीव से ओमराजे निंबालकर, शिर्डी से भाईसाहेब वाघचौरे, वाशिक से राजाभाऊ वाजे, रायगढ़ से अनंत गीते, सिंधुदुर्ग-रत्नागिरी से विनायक राउत, ठाणे से राजन विचारे, मुंबई-पूर्व से संजय दीना पाटिल, मुंबई दक्षिण से अरविंद सावंत, मुंबई पश्चिम सीट से अमोल कीर्तिकर और परभणी सीट से संजय जाधव को टिकट दिया है। शिवसेना यूबीटी ने कांग्रेस की नाराजगी को नजरअंदाज करते हुए सांगली सीट पर भी उम्मीदवार घोषित कर दिया है। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि यहां विपक्षी महाविकास आघाड़ी गठबंधन में खटास पैदा हो सकती है।

Previous articleनौकरी का झांसा देकर भर्ती की, फिर साइबर ठगी की ट्रेनिंग देकर काम पर लगाया  Public Live
Next articleअमेरिका ने उगला भारत के खिलाफ जहर,सीएए पर जताई चिंता Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।