श्री देवी को याद कर भावुक हुए बोनी कपूर, कहा…… Public Live

0
18

श्री देवी को याद कर भावुक हुए बोनी कपूर, कहा……

PublicLive.co.in

फिल्म निर्माता बोनी कपूर अक्सर सुर्खियों में बने रहते हैं। बॉलीवुड में उन्होंने अपनी एक अलग पहचान बनाई है। फिल्म इंडस्ट्री को एक से बढ़कर एक हिट फिल्म देने वाले इस निर्माता-निर्देशक को कई बार असफलताओं का भी सामना करना पड़ा है। पिछले दिनों एक इंटरव्यू के दौरान बोनी अपने करियर के इसी उतार-चढ़ाव से लेकर अपनी दिवंगत पत्नी श्री देवी के बारे में भी खुलकर बातें करते दिखे। 

असफलता से कौन नहीं गुजरता 

एक दौर था जब बोनी कपूर की एक साथ कई फिल्में फ्लॉप कर गई थीं। इन असफलताओं की वजह से उन्हें भारी वित्तीय नुकसान का सामना करना पड़ा था। एक इंटरव्यू के दौरान अपने बुरे दिनों को याद करते हुए बोनी कहते हैं, ‘मुझे पता था कि मैंने गलती की है तो मुझे खामियाजा भुगतना ही पड़ेगा। मैं उन दिनों बेहद तनावग्रस्त था, लेकिन मुझे यकीन था कि एक न एक दिन मैं इन हालात से बाहर निकल जाऊंगा। आखिर असफलता से कौन नहीं गुजरता है।’

श्री देवी ने दिया साथ 

बोनी अपनी बात जारी रखते हुए कहते हैं, ‘जब मैंने खुद पर भरोसा करना छोड़ दिया था तब श्री ने मुझ पर विश्वास दिखाया था। वे एक चट्टान की तरह मेरे साथ खड़ी थीं। उन्हें पता था कि मैंने गलत काम में पैसे नहीं खर्च किए थे। मुझे उनके भरोसे से हौसला मिलता रहा और मैं उस कठिन दौर से बाहर निकल ही आया। मैं भगवान का शुक्रगुजार हूं कि मुझे एक ऐसा परिवार मिला जिसने बुरे वक्त में मेरा साथ दिया।’

गलतियों से मिली सीख 

बोनी कपूर की महत्वकांक्षी फिल्म ‘रूप की रानी चोरों का राजा’ बॉक्स ऑफिस पर कोई कमाल नहीं दिखा पाई थी। इस फिल्म में श्री देवी ने अनिल कपूर के साथ किया था। महंगे बजट से बनी यह फिल्म फ्लॉप रही और बोनी कपूर को इसका खामियाजा भुगतना पड़ा। बोनी कहते हैं, ‘जब मैं कठिन दौर से गुजर रहा था तब बॉलीवुड के कई फाइनांसरो ने दिल खोल कर मेरी मदद की थी। उन्होंने ने मुझ पर भरोसा दिखाया था उसके लिए मैं उनका शुक्रगुजार हूं। इंसान अपनी गलतियों से ही सीखता है और मैंने भी अपनी गलतियों से सीख लिया है।’

Previous articleप्रदेश को मिलीं 729 महिला दरोगा Public Live
Next articleफिल्म ‘मडगांव एक्सप्रेस’ में हुई इस स्टार्स की एंट्री Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।