समर्थन मूल्य पर गेहूं उपार्जन के लिए पांच फरवरी से पंजीयन शुरू Public Live

0
18

समर्थन मूल्य पर गेहूं उपार्जन के लिए पांच फरवरी से पंजीयन शुरू

PublicLive.co.in

खरगोन | जिला मुख्यालय से मिली जानकारी के अनुसार विपणन वर्ष 2024-25 में समर्थन मूल्य पर गेहूं उपार्जन के लिए 05 फरवरी से 01 मार्च 2024 तक जिले की सहकारी समितियों, एमपी ऑनलाइन, कॉमन सर्विस सेन्टर के साथ ही किसान ऐप के माध्यम से किसानों का पंजीयन कराया जायेगा। जिला प्रशासन ने इसके लिए किसानों से पंजीयन केन्द्रों में तय की गई समयसीमा में गेहूं उपार्जन के लिए पंजीयन कराने की अपील जारी की है। 

खरगोन जिले के खाद्य आपूर्ति अधिकारी भारत सिंह जमरे ने बताया कि समर्थन मूल्य पर गेहूं उपार्जन के लिए ग्राम पंचायत, जनपद पंचायत कार्यालय, एवं तहसील कार्यालय में स्थापित सुविधा केन्द्र, सहकारी समितियों एवं विपणन संस्थाओं द्वारा संचालित पंजीयन केन्द्रों पर किसानों का निःशुल्क पंजीयन किया जाएगा। इन केन्द्रों पर किसान सुबह 7 बजे से रात के 9 बजे तक पंजीयन करा सकते हैं, हालांकि सरकारी छुट्टियों के दिनों में इन स्थानों पर पंजीयन नहीं हो सकेगा।

वहीं खाद्य अधिकारी के अनुसार किसान घर बैठे भी अपने स्मार्ट एन्ड्रायड मोबाइल के प्ले स्टोर से एमपी किसान एप डाउनलोड कर इस एप के माध्यम से निःशुल्क पंजीयन खुद ही कर सकते हैं। इसके साथ ही यदि जिनके पास मोबाइल नहीं है, तब ऐसे में वे एमपी ऑनलाइन कियोस्क सेंटर या कॉमन सर्विस सेंटर, लोक सेवा केन्द्र एवं निजी व्यक्तियों द्वारा संचालित साइबर कैफे पर सशुल्क पंजीयन भी करवा सकते हैं।

Previous articleRupay क्रेडिट कार्ड का करते हैं इस्तेमाल तो जाने इसके फायदे Public Live
Next articleशोएब बशीर ने टेस्ट डेब्यू विकेट मिलने के अनुभव का किया खुलासा, कहा….. Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।