सीएए को लेकर जामिया और दिल्ली यूनिवर्सिटी में छात्रों का प्रदर्शन  Public Live

0
30

सीएए को लेकर जामिया और दिल्ली यूनिवर्सिटी में छात्रों का प्रदर्शन 

PublicLive.co.in

नई दिल्ली । मोदी सरकार द्वारा जारी की गई सीएए की अधिसूचना के खिलाफ जामिया मिल्लिया इस्लामिया और दिल्ली यूनिवर्सिटी में छात्रों का प्रदर्शन हुआ। भारी पुलिस बल की मौजूदगी में जामिया में छात्र ग्रुप ने यूनिवर्सिटी गेट नं.-7 के आगे प्रदर्शन के साथ अपनी मांगें रखीं। जामिया में कुछ स्टूडेंट्स ने प्रदर्शन किया, जिसके बाद कैंपस और इलाके में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया। दूसरी ओर, दिल्ली यूनिवर्सिटी में भी कुछ स्टूडेंट्स ने सीएए के खिलाफ प्रदर्शन किया, जिसके बाद पुलिस ने 50-60 छात्रों को हिरासत में ले लिया।

जामिया यूनिवर्सिटी के गेट पर लेफ्ट संगठन ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आइसा), स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई), एआईडीएसओ, स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन ऑफ इंडिया (एसओआई) सहित कई ग्रुप ने प्रदर्शन किया। छात्रों ने मांग की है कि इस सीएए अधिसूचना को वापस लिया जाए और उन सभी स्टूडेंट्स के खिलाफ चलाए जा रहे केस निरस्त किए जाएं, जिन्होंने चार साल पहले हुए सीएए-एनआरसी के खिलाफ हुए आंदोलन में हिस्सा लिया था।

छात्रों ने प्रेसवार्ता कर कहा कि जब से सीएए की अधिसूचना जारी हुई है, जामिया इलाके में भारी तादाद में पुलिस घूम रही है। स्टूडेंट्स ने पुलिस बल हटाने की भी मांग की।

दूसरी ओर, डीयू के आर्ट्स फैकल्टी में आइसा सहित कुछ संगठनों ने प्रदर्शन किया। मगर इस दौरान पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। आइसा का कहना है कि पुलिस ने स्टूडेंट्स को घसीटकर, मार-पीट कर हिरासत में लिया।

Previous articleरात तीन बजे युवक ने बड़ी झील में कुदकर की आत्महत्या Public Live
Next articleचाचा पीएम बने तो भतीजों की हुई वतन वापसी Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।