सीएम विष्णुदेव साय- हम अब फिर से बनेंगे विश्वगुरु Public Live

0
18

सीएम विष्णुदेव साय- हम अब फिर से बनेंगे विश्वगुरु

PublicLive.co.in

रायपुर। मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय ने कहा है कि रामलला आ गए हैं। अब प्रदेश और देश में रामराज्य स्थापित होगा। रामराज्य में किसी के साथ अन्याय नहीं होगा। हमारा देश विश्वगुरु था। मुगलों और अंग्रेजों के शासन के समय इसमें समस्याएं आईं, लेकिन अब हम फिर से विश्वगुरु बनने की ओर अग्रसर हैं।रविवार को कचहरी चौक स्थित शासकीय अनुदान प्राप्त शिक्षक एवं कर्मचारी संगठन की ओर से राष्ट्रीय उच्चतर माध्यमिक स्कूल में आयोजित सम्मान समारोह में मुख्यमंत्री ने यह बातें कही। उन्होंने कहा कि शिक्षक (गुरु) तो भगवान से भी बड़े होते हैं। गुरु ही भगवान से परिचय कराते हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने माता शबरी की भक्ति और भगवान राम के आने की प्रतीक्षा को जिस तरह रेखांकित किया, उसने छत्तीसगढ़वासियों को द्रवित कर दिया है। छत्तीसगढ़ भगवान श्रीराम का ननिहाल है, इसलिए हमारी प्रसन्नता की कोई सीमा नहीं है। पूरे प्रदेश में इस तिथि को रामोत्सव के रूप में मनाया गया।मुख्यमंत्री ने लिखा कि मैंने इस अवसर पर माता शबरी के पवित्र धाम शिवरीनारायण से प्राण-प्रतिष्ठा कार्यक्रम का अवलोकन करने का निश्चय किया। अभिजीत मुहूर्त के शुभ क्षणों में जब आपने श्रीरामलला की प्राण प्रतिष्ठा की तो यह हम सबके लिए उल्लास का, भावुकता का और गौरव का क्षण था।

Previous articleदो दिन के विश्राम के बाद अब बंगाल में चलेगा ‘डोनेट फॉर न्याय’ अभियान Public Live
Next articleमहाराष्ट्र के रत्नागिरी में नहीं है ठंड  Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।