स्कोप यूनिवर्सिटी द्वारा हॉस्पिटेलिटी एंड रेस्टोरेंट मैनेजमेंट पर बीबीए प्रोग्राम किया गया लॉन्च Public Live

0
21

स्कोप यूनिवर्सिटी द्वारा हॉस्पिटेलिटी एंड रेस्टोरेंट मैनेजमेंट पर बीबीए प्रोग्राम किया गया लॉन्च

PublicLive.co.in

भोपाल । स्कोप ग्लोबल स्किल्स यूनिवर्सिटी (एसजीएसयू) और नेशनल रेस्तरां एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एनआरएआई) भोपाल चैप्टर के संयुक्त तत्वावधान में बुधवार को विश्वविद्यालय के वनमाली सभागार में “बीबीए प्रोग्राम इन हॉस्पिटेलिटी एंड रेस्टोरेंट मैनेजमेंट” को लॉन्च किया गया। इस अवसर पर समारोह में बतौर मुख्य अतिथि मप्र टूरिज्म एवं कल्चर डिपार्टमेंट के प्रिंसिपल सेक्रेटरी शिव शेखर शुक्ला, वहीं विशिष्ट अतिथि के रूप में एनआरएआई भोपाल चैप्टर के को-हैड सचिन अग्रवाल, स्कोप ग्लोबल स्किल्स यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. सिद्धार्थ चतुर्वेदी, एसजीएसयू वाइस चांसलर डॉ. अजय भूषण मौजूद रहे। वहीं अन्य अतिथियों में पीएसएससीआईवी से हॉस्पिटेलिटी एकेडमिशियन डॉ. प्रकाश चंद्र राउत,  महात्मा गांधी नेशनल फैलो आयुष नंदा, एनआरएआई भोपाल के सेक्रेटरी और एफ फॉर फ्राइज के फाउंडर गर्वित अग्रवाल और स्कोप ग्लोबल स्किल्स यूनिवर्सिटी के कुलसचिव डॉ. सितेश कुमार सिन्हा शामिल रहे।

इस अवसर पर मुख्य वक्ता शिव शेखर शुक्ला ने कहा कि हॉस्पिटेलिटी और रेस्टोरेंट मैनेजमेंट पर विस्तृत कोर्स की शुरुआत करना एसजीएसयू की एक अभिनव पहल है। इस सेक्टर में स्किल्ड वर्कफोर्स प्रदान करने के लिए यह एक महत्वपूर्ण कदम है। हम कोविड के बाद समय से बड़े स्तर पर आयोजनों को होते हुए और बढ़ते हुए ट्रैवलिंग के ट्रेंड को देख रहे हैं। इस संदर्भ में सेफ्टी और हाइजीन के इंटरनेशनल स्टैंडर्ड को पाना आवश्यक है। ऐसे में पहले उन्हें जानना जरूरी है जो इस कोर्स के माध्यम से संभव हो सकेगा। साथ ही उन्होंने सीखो और कमाओ योजना के बारे में बताते हुए एनआरएआई संस्था को इससे जुड़ने के लिए आमंत्रित किया।

वहीं एसजीएसयू के वाइस चांसलर डॉ. अजय भूषण ने नए कोर्स के बारे में विस्तार से बात करते हुए कहा कि इस तीन वर्षीय पाठ्यक्रम में पहला वर्ष कैंपस में एजुकेशन और दूसरा एवं तीसरा वर्ष इंडस्ट्री में हैंड्स ऑन एक्सपीरियंस से जुड़ा हुआ है। इसमें छात्रों को काम के दौरान आय के अवसर भी मिलेंगे। आगे उन्होंने कहा कि स्कोप ग्लोबल स्किल्स यूनिवर्सिटी की स्थापना छात्रों को क्वालिटी एम्प्लायबिलिटी और क्वालिटी स्किल प्रदान करने के उद्देश्य के साथ की गई है जो इस यूनिवर्सिटी को अपने आप में अनूठा बनाता है। साथ ही उन्होंने कहा कि हम अन्य सेक्टर स्किल काउंसिल के साथ भी मिलकर कार्य कर रहे हैं।

 

वहीं एनआरएआई के भोपाल को-हैड सचिन अग्रवाल ने कहा कि यह स्कोप ग्लोबल स्किल्स यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर लिया गया एक महत्वपूर्ण कदम है। आमतौर पर रेस्टोरेंट इंडस्ट्री में वे लोग कार्य करते हैं जो अक्सर पढ़ नहीं पाते हैं। ऐसे में वे नहीं समझते हम क्या कर रहे हैं और उन्हें सिर्फ अपनी तन्ख्वाह का ख्याल होता है। लेकिन अगर व्यक्ति में स्किल है और पढ़ा हुआ हो तो उसके लिए ग्रो करना आसान हो जाता है। इस इंडस्ट्री में आज तेजी से एंटरप्रेन्योर आ रहे हैं। ऐसे में इस कोर्स का महत्व बढ़ जाता है। मैं चाहूंगा हॉस्पिटेलिटी इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को इस कोर्स को करना चाहिए। उन्हें मैनेजमेंट के पहलू जानने का मौका मिलेगा, वे अपने व्यापार और कार्य को बेहतर बना पाएंगे। इसके अलावा सचिन अग्रवाल ने एनआरएआई के बारे में बताया कि हम इस इंडस्ट्री में पिछले 30 वर्षों से कार्य करते हुए एडवोकेसी, स्किलिंग, नॉलेज शेयरिंग और इंडस्ट्री के सामने आने वाले लीगल इश्यू पर सहयोग प्रदान करते हैं एवं विभिन्न फोरम पर उठाते हैं।

 

प्रकाश चंद्र राउत ने कहा कि यह अपने आप में एक अनूठा कोर्स है। विदेशों में इस प्रकार के कोर्सेज की शुरुआत काफी समय पहले हो चुकी थी। परंतु यह अच्छी बात है भारत में भी इसकी शुरुआत की जा रही है। उन्होंने बताया कि देश में हर 5 में से 1 जॉब टूरिज्म एवं हॉस्पिटेलिटी इंडस्ट्री से होती है और यह इंडस्ट्री देश की जीडीपी में 12 प्रतिशत तक योगदान  करती है।   

 

स्कोप ग्लोबल स्किल्स यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. सिद्धार्थ चतुर्वेदी ने कहा कि हॉस्पिटेलिटी एवं रेस्टोरेंट मैनेजमेंट में बीबीए प्रोग्राम के जरिए हमने इंडस्ट्री के अनुरूप एक आदर्श कोर्स की शुरुआत की है। इस प्रकार के कोर्सेज को हम अन्य सेक्टर्स के अनूरूप तैयार कर प्रारंभ करना चाहेंगे। इसके लिए हम एनआरएआई की टीम और उनके द्वारा प्रदान की गई लीडरशिप का आभार व्यक्त करते हैं।

 

बीबीए कोर्स के बारे में अपने विचार व्यक्त करते हुए एसजीएसयू कुलसचिव डॉ. सितेश कुमार सिन्हा ने कहा कि बतौर कौशल विश्वविद्यालय हमारा ध्येय युवाओं को उद्योग जगत की मांग के अनुरूप कौशल प्रदान कर उनकी रोजगारोन्मुखता को बढ़ावा देना है। इसी कड़ी में बीबीए प्रोग्राम इन हॉस्पिटेलिटी एवं रेस्टोरेंट मैनेजमेंट की शुरुआत की गई है।

 

अंत में आभार वक्तव्य रोजगार मंत्रा हैड उद्दीपन चटर्जी ने दिया।

 

गौरतलब है कि 1982 में स्थापित नेशनल रेस्तरां एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एनआरएआई) भारतीय रेस्तरां उद्योग की आवाज है। भारतीय रेस्तरां उद्योग का अग्रणी संघ होने के नाते, एनआरएआई भारतीय खाद्य सेवा क्षेत्र को बढ़ावा देने और मजबूत करने के लिए प्रयासरत है। एनआरएआई भारतीय रेस्तरां उद्योग को अधिक लाभदायक विकास की ओर ले जाना चाहता है। यह एडवोकेसी, प्रशिक्षण, अनुसंधान और उद्योग कार्यक्रमों के माध्यम से सदस्यों के हितों का प्रतिनिधित्व करता है।

 

Previous article34 जिलों में ईवीएम के प्रथम रेंडमाइजेशन की प्रक्रिया संपन्न Public Live
Next articleविश्व वानिकी दिवस पर “वानिकी में नवाचार” पर संगोष्ठी आयोजित Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।