हरिद्वार ही नहीं नैनीताल में भी है हर की पौड़ी, ब्रह्मा जी के बेटों ने की थी मंदिर में तपस्या! Public Live

0
23

हरिद्वार ही नहीं नैनीताल में भी है हर की पौड़ी, ब्रह्मा जी के बेटों ने की थी मंदिर में तपस्या!

PublicLive.co.in

उत्तराखंड के नैनीताल जिले में वैसे तो कई पौराणिक मंदिरों के साथ ही पौराणिक स्थान भी हैं, जिनकी अपनी अलग-अलग मान्यताएं हैं. ऐसा ही एक पौराणिक स्थल नैनीताल से लगभग 27 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जिसका नाम है नौकुचियाताल, जो अपने 9 कोनों के लिए जाना जाता है. पर्यटक स्थल होने के साथ ही इस जगह का आध्यात्मिक महत्व भी कहीं ज्यादा है. नौकुचियाताल में झील के किनारे हर की पौड़ी मंदिर (Har ki Pauri in Naukuchiatal) भी स्थित है, जिसकी काफी मान्यता है. यहां समय-समय पर धार्मिक अनुष्ठान किए जाते हैं.

नौकुचियाताल निवासी डॉ विनोद पाठक ने कहा कि हर की पौड़ी मंदिर काफी प्राचीन है. इस मंदिर के पास स्नान की मान्यता है, जिस वजह से कई जगहों से श्रद्धालु यहां स्नान करने के लिए पहुंचते हैं. नौकुचियाताल स्थित इस हर की पौड़ी का वर्णन स्कन्द पुराण के मानसखंड में भी है, जिसमें इसे 9 कुण यानी नौ कोनों वाला सरोवर कहा गया है. उन्होंने कहा कि नौकुचियाताल का पौराणिक नाम सनत सरोवर है. हर की पौड़ी मंदिर में ब्रह्मा जी के चार बेटों सनक, सनातन, सनंदन और सनत कुमार ने कई वर्षों तक तपस्या की थी और कई वर्षों के कठोर तप के बाद अपने तपोबल से इस सरोवर का निर्माण किया था, इसलिए इसकी तुलना हर की पौड़ी से की जाती है क्योंकि इस जगह का संपर्क सीधे हरिद्वार से बताया गया है. हरिद्वार स्थित हर की पौड़ी के समान ही यहां के जल की भी मान्यता है, जो खराब नहीं होता है.

हर की पौड़ी पर यज्ञोपवीत संस्कार और श्राद्ध

उन्होंने आगे कहा कि यह स्थान अन्य महत्वपूर्ण तीर्थ स्थान के भांति ही विशेषता रखता है. यहां की महत्वता इतनी है कि स्थानीय लोग यहां खासकर मकर संक्रांति, बसंत पंचमी, नवरात्रि, हरेला और जालसायनी एकादशी के दिन जरूर स्नान करने आते हैं. इसके अलावा इस सरोवर में देव डांगर भी नहलाए जाते हैं. वहीं इस पवित्र हर की पौड़ी में यज्ञोपवीत संस्कार व श्राद्ध भी संपन्न किए जाते हैं.

 

Previous articleक्यों कहते हैं विष्णु भगवान को नारायण Public Live
Next articleसंकष्टी चतुर्थी पर कब होगा चंद्रोदय? जानें शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।