होली पर हर रूट के यात्रियों को घर पहुंचाएंगी परिवहन निगम की बसें  Public Live

0
20

होली पर हर रूट के यात्रियों को घर पहुंचाएंगी परिवहन निगम की बसें 

PublicLive.co.in

लखनऊ । होली के पर्व पर उत्तर प्रदेश के निवासियों को घर लौटने के लिए हर रूट पर भरपूर बसें उपलब्ध रहेंगी। उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम 22 मार्च से एक अप्रैल तक होली स्पेशल बसों का संचालन करने जा रहा है। ये बसें एक अप्रैल तक चलेंगी, जिससे यात्रियों को बड़ी राहत मिलेगी। उल्लेखनीय है कि इस बार होली 24 और 25 मार्च को होनी है। इसके बाद गुड फ्राइडे, शनिवार और रविवार की छुट्टी है। ऐसे में पूरे सप्ताह भर के लिए ही लोग अपने घरों को आने-जाने के लिए बसों को प्राथमिकता देंगे। इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने होली स्पेशल बसें चलाने का निर्णय लिया है। इस दौरान परिवहन निगम अपने चालक और परिचालकों को प्रोत्साहन भत्ता भी प्रदान करेगा। 10 दिन तक अधिकारियों और कर्मचारी की छुट्टियां भी रद कर दी गई हैं। 

परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह ने बताया कि प्रोत्साहन अवधि के दिनों में दिल्ली से पूर्वी दिशा के यात्रियों को ले जाने के लिए अधिक से अधिक संख्या में बसें चलाई जाएंगी जो होली पर्व की शाम तक यात्रियों को उनकी मंजिल तक पहुंचाती रहेंगी। ऐसी ही व्यवस्था लखनऊ और कानपुर नगरों में यातायात प्रबंधन के लिए की जाएगी। पूर्वी उत्तर प्रदेश के क्षेत्र गाजियाबाद, दिल्ली और पश्चिम क्षेत्र के अन्य स्थानों के लिए प्रारंभिक बिंदु से 60 प्रतिशत से अधिक यात्री लोड मिलता है तो पूर्वी क्षेत्र इस अवधि में अतिरिक्त सेवाएं संचालित कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि प्रोत्साहन योजना अवधि में शत-प्रतिशत परिवहन निगम की बसों को ऑन रोड किया जाए। लगातार इनका संचालन हो। मुख्यालय और क्षेत्रीय स्तर से प्रत्येक डिपो में अतिरिक्त असेंबलीज और स्पेयर पार्ट्स की उपलब्धता कराई जाए। मुख्य प्रधान प्रबंधक प्राविधिक प्रतिदिन क्षेत्र की ऑफ रोड वाहनों की समीक्षा कर स्थिति से अवगत कराएं। मेंटीनेंस पर विशेष ध्यान दिया जाए। इस अवधि में अधिकारियों, पर्यवेक्षकों, चालकों, परिचालकों और किसी कर्मचारी को कोई भी अवकाश नहीं दिया जाएगा। अनुबंधित बसें भी हरहाल में इस अवधि में ऑन रोड रहेंगी। 

परिवहन निगम के प्रधान प्रबंधक (संचालन) मनोज कुमार की तरफ से दिए गए निर्देशों में जिक्र है कि क्षेत्रीय प्रबंधक गाजियाबाद, लखनऊ और कानपुर यातायात व्यवस्था पर नजर रखेंगे। किसी तरह की कठिनाई और बसों की जरूरत की स्थिति में क्षेत्र के बीच सामंजस्य स्थापित करें। यात्रियों की उपलब्धता के मुताबिक बसों की व्यवस्था करेंगे। 22 मार्च से एक अप्रैल तक दिल्ली रूट पर मुख्यालय स्तर से प्रधान प्रबंधक एसएल शर्मा की ड्यूटी दिल्ली, गाजियाबाद में लगाई गई है। सभी डिपो में इस दौरान 24 घंटे कैश जमा करने, डीजल दिए जाने, बसों की मरम्मत सुविधा उपलब्ध कराने और ईटीएम व टिकट निर्गत करने की व्यवस्था की जाए। 

ऐसे चालक और परिचालक (संविदा और आउटसोर्सिंग के भी शामिल) जो न्यूनतम 10 दिनों में उपस्थित होकर निर्धारित औसत किलोमीटर की बस चलाने के एवज में 350 रुपए प्रतिदिन की दर से 3500 रुपए के विशेष प्रोत्साहन भुगतान के हकदार होंगे। प्रोत्साहन अवधि में 300 किलोमीटर प्रतिदिन संचालन करना होगा। अगर कर्मचारी 11 दिन की प्रोत्साहन अवधि तक रोज ड्यूटी करते हैं और किलोमीटर के मानक पूरे करते हैं तो 400 रुपए प्रति दिन की दर से प्रोत्साहन राशि उपलब्ध कराई जाएगी। कुल 11 दिनों के लिए 4400 रुपए प्रोत्साहन का भुगतान किया जाएगा। संविदा और आउटसोर्स चालक परिचालकों को प्रोत्साहन अवधि में निर्धारित मानक से अधिक किलोमीटर अर्जित करने पर 55 पैसे अतिरिक्त प्रति किलोमीटर की दर से मानदेय उपलब्ध कराया जाएगा। निर्धारित अवधि में 11 दिन लगातार ड्यूटी करने वाले डिपो कार्यशाला और क्षेत्रीय कार्यशाला में काम करने वाले कर्मचारी, जिनमें निगम में लगे आउटसोर्स कार्मिक भी शामिल होंगे, को 1800 रुपए और इस अवधि के 10 दिन ड्यूटी करने वाले कार्यशाला कर्मचारियों को 1500 रुपए प्रोत्साहन राशि का भुगतान किया जाएगा। इस अवधि में क्षेत्रीय प्रबंधकों, सेवा प्रबंधकों को भी प्रोत्साहन भुगतान किया जाएगा। क्षेत्रीय प्रबंधक को 10,000 रुपए और सेवा प्रबंधक को 5000 रुपए दिए जाएंगे जो क्षेत्रीय समिति की संस्तुति के अनुसार प्रोत्साहन अवधि में उत्कृष्ट कार्य करने वाले क्षेत्र के कर्मचारी उपाधिकारियों में वितरित करेंगे। 

Previous articleकोकिलाबेन अस्पताल में हुई सुपरस्टार अमिताभ बच्चन की एंजियोप्लास्टी, जानें अब कैसी है हालत? Public Live
Next article‎फिनटेक की कंपनी परफियोज ने 8 करोड़ डॉलर जुटाए Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।