होली में अपने परिवार को बुरी नजर से बचाएं, तंत्र-मंत्र से सुरक्षित करेगी भगवान नरस‍िंहा की उपासना Public Live

0
36

होली में अपने परिवार को बुरी नजर से बचाएं, तंत्र-मंत्र से सुरक्षित करेगी भगवान नरस‍िंहा की उपासना

PublicLive.co.in

होली रंगों का त्योहार है. रंग हमारे जीवन में खुशियों का प्रतिनिधित्व करते हैं. इस साल आज यानी 24 मार्च रविवार के दिन होलिका दहन होगा. होली असत्य पर सत्य की जीत के साथ-साथ एक भक्त की उसके ईष्ट देव के प्रति अटूट श्रद्‌धा और भक्ति को भी दर्शाती है. वहीं इसके उलट दुष्ट प्रकृति के मनुष्य इस समय विभिन्न तंत्र, मंत्र, यंत्र, जादू-टोना इत्यादि खूब करते हैं. क्योंकि इस समय सभी ग्रह उग्र रहते हैं, तो वटकर्म जैसे – मारण, मोहन, सतम्भन, उच्चाइन, विदुषण, वशीकरण बहुत आसानी से तथा तीव्रता के साथ किया जा सकता है. कैसे भगवान नरसिंहा की पूजा कर आप खुद और अपने परिवार को इन तंत्र-मंत्र से बचा सकते हैं.

क्‍या है होलाअष्‍टक

राक्षस राज हिरण्य कश्यप, जो स्वंय को भगवान समझता था, अपने विष्णु भक्त पुत्र प्रहलाद्ध को घोर यातनाएं देकर डराकर, धमकाकर अपने अधीन करना चाहता था. उसने प्रहलाद को आठ दिन घोर यातनाएं दीं. इसी अवधि को होलाष्टक कहा जाता है. यह फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष की अष्टमी से शुरू होकर फाल्गुन मास की पूर्णिमा तक माना जाता है. इसका अंत होलिका दहन के साथ हो जाता है. यह समय बहुत उग्र तथा नकारात्मक उर्जा से भरा रहता है. इसलिये मान्यताओं के अनुसार इस समय की भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है.

होलिका दहन 2024 का समय (Timing of Holika Dahan)

इस वर्ष 24 मार्च को होलिका दहन किया जाएगा. इसके लिए शुभ मुहूर्त देर रात 11:13 बजे से लेकर 12:27 मिनट तक रहेगा. ऐसे में होलिका दहन के लिए आपको कुल 1 घंटे 14 मिनट का समय मिलेगा.

 

Previous articleइस बार सोमवती अमावस्या पर खास संयोग, पितृ दोष से मुक्ति पाने का उत्तम समय Public Live
Next articleभारत का चरित्र है कि वह दुनिया के किसी भी देश पर कभी हमला नहीं करता Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।