LIVE: ममता बनर्जी मामले पर CBI की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट में कल होगी सुनवाई

नई दिल्‍ली : शारदा चिटफंड घोटाले में सीबीआई के कोलकाता पुलिस कमिश्‍नर राजीव कुमार से पूछताछ करने की कोशिश के खिलाफ धरने पर बैठीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि वह देश और संविधान बचाने के लिए ‘‘सत्याग्रह’’ जारी रखेंगी. वहीं सीबीआई ने ममता बनर्जी और राजीव कुमार मामले में सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई को कल (5 फरवरी) के लिए टाल दिया है.

ममता बनर्जी ने रविवार को कहा था, ‘मैं यकीन दिला सकती हूं…मैं मरने के लिए तैयार हूं, लेकिन मैं मोदी सरकार के आगे झुकने के लिए तैयार नहीं हूं. हम आपातकाल लागू नहीं करने देंगे. कृपया भारत को बचाएं, लोकतंत्र बचाएं, संविधान बचाएं.’ ममता बनर्जी को विपक्षी दलों का समर्थन भी मिल रहा है.

दूसरी ओर बीजेपी ने ममता बनर्जी पर पलटवार करते हुए कहा कि ममता ने सीबीआई को सुबूत क्‍यों नहीं दिए. उन्‍होंने सीबीआई को जांच से क्‍यों रोका. बीजेपी का एक उच्‍चस्‍तरीय प्रतिनिधिमंडल ममता बनर्जी के धरने के खिलाफ आज दोपहर 12:30 बजे चुनाव आयोग से मिलेगा. वहीं कोलकाता पुलिस कमिश्‍नर राजीव कुमार भी सोमवार सुबह धरनास्‍थल पर ममता बनर्जी से मुलाकात के बाद वहां से चले गए.

पुलिस कमिश्‍नर राजीव कुमार. फोटो ANI

महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) ने भी ममता बनर्जी को समर्थन का ऐलान किया है. मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने कहा ‘केंद्र सरकार की तानाशाही के खिलाफ ममता बनर्जी के इस कदम पर हम उनका समर्थन करते हैं. हम अन्‍याय के खिलाफ इस लड़ाई में उनके साथ खड़े हैं.’

आज सुप्रीम कोर्ट जाएगी सीबीआई
सीबीआई सोमवार को इस मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट का रूख करेगी. सीबीआई आज चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) रंजन गोगोई की कोर्ट में याचिका दायर करेगी. इस दौरान वह जल्‍द सुनवाई की अपील करेगी. सीबीआई की ओर से केस की पैरवी तुषार मेहता करेंगे. वहीं पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से अभिषेक मनु सिंघवी केस को देखेंगे.सीबीआई ने दावा किया कि पोंजी घोटालों में उसकी जांच में पश्चिम बंगाल सरकार और राज्य की पुलिस रोड़े अटका रही है.

विपक्षी दल समर्थन में देंगे धरना
आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री और तेदेपा प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने इस मामले पर कहा, ‘हम लोग दिल्‍ली में सोमवार को सभी विपक्षी नेताओं के साथ इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे. साथ ही पूरे देश में आंदोलन चलाने को लेकर रणनीति बनाएंगे. तेदेपा सांसद इस मामले पर अन्‍य विपक्षी दलों के सांसदों के साथ धरना देंगे.’

ममता ने बिना कुछ खाए बिताई रात
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कुछ वरिष्ठ मंत्रियों और पार्टी के सदस्यों के साथ बिना कुछ खाए रातभर अस्थायी मंच पर बैठी रहीं. बनर्जी ने कहा, ‘‘यह एक सत्याग्रह है और जब तक देश सुरक्षित नहीं हो जाता तब तक मैं इसे जारी रखूंगी.’’ उन्होंने कहा कि उन्हें मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और गुजरात के विधायक व दलित नेता जिग्नेश मेवाणी समेत कई नेताओं के फोन आ रहे हैं.

ममता के समर्थक भी पहुंच गए हैं कोलकाता. फोटो ANI

‘विपक्षी नेता आएं तो उनका स्‍वागत है’
यह पूछने पर कि क्या कोई नेता उनसे मिलने शहर आएगा, बनर्जी ने कहा, ‘मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है. अगर कोई आना चाहता है तो हम उसका स्वागत करेंगे. यह लड़ाई मेरी पार्टी की नहीं है. यह मेरी सरकार के लिए है.’ इस बीच, कई जिलों से पार्टी समर्थक कोलकाता पहुंचे और उन्होंने ममता बनर्जी के समर्थन में नारे लगाए.

धरने पर बैठींं ममता बनर्जी. फोटो ANI

CBI की दबिश के बाद उपजा विवाद
बता दें कि चिटफंड घोटाला मामले में सीबीआई के कोलकाता पुलिस प्रमुख राजीव कुमार से पूछताछ करने के प्रयास के खिलाफ ममता बनर्जी रविवार शाम को धरने पर बैठीं थीं. सीबीआई की एक टीम रविवार को मध्य कोलकाता में कुमार के लाउडन स्ट्रीट स्थित आवास पहुंची थी लेकिन वहां तैनात संतरियों एवं कर्मियों ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया और उन्हें जीप में भर के पुलिस थाने ले गए.

रविवार रात धरने पर बैठी थीं ममता बनर्जी. फोटो ANI

विपक्ष का समर्थन मिलने का दावा
सीबीआई कुमार से लापता दस्तावेज और फाइलों के बारे में पूछताछ करना चाहती थी. घोटालों की जांच करने वाली पश्चिम बंगाल की पुलिस टीम का कुमार ने नेतृत्व किया था. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एम चंद्रबाबू नायडू, राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद सहित कई नेताओं ने ममता बनर्जी का समर्थन किया है. राहुल गांधी ने ममता को फोन कर अपना समर्थन दिया.

वहीं सीबीआई के संयुक्त निदेशक पंकज श्रीवास्तव ने कहा कि एजेंसी के अधिकारी कोलकाता पुलिस प्रमुख राजीव कुमार के आवास पर उनसे चिटफंड मामले में पूछताछ करने गए थे और ‘अगर वह हमारा सहयोग नहीं करते तो हम उन्हें हिरासत में लेते’. बता दें कि पश्चिम बंगाल सरकार ने सबसे पहले ये रोक लगाई थी कि उसके राज्‍य में सीबीआई बि‍ना उसकी अनुमति के कोई एक्‍शन नहीं लेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help