समय पर पहुंची पुलिस, बचा ली जिंदगी:पत्नी के छोड़कर जाने से दुखी पति ने कर लिया खुदकुशी का फैसला, जेब में रखा सुसाइड नोट और पहुंच गया सागरताल, पुलिस ने बचाया

ग्वालियर

सागरताल पर खुदकुशी करने पहुंचा युवक, जिसे पुलिस ने समय पर पहुंचकर बचा लिया - Dainik Bhaskar

सागरताल पर खुदकुशी करने पहुंचा युवक, जिसे पुलिस ने समय पर पहुंचकर बचा लिया

  • डायल 100 के स्टाफ ने समय पर पहुंचकर बचाई जान
  • रविवार शाम सागरताल की घटना
  • कांउसिलिंग के बाद युवक को भेजा घर

पत्नी के छोड़कर जाने से आहत पति ने अपनी जान देने का फैसला कर लिया। जेब में दो पेज का सुसाइड नोट रखकर वह सागरताल पर छलांग लगाने पहुंच गया। उसे सागरताल की ओर जाते देखा तो लोगों ने DIAL 100 पर सूचना दे दी। सूचना की गंभीरता को समझते हुए DIAL 100 मौके पर पहुंची और पुलिस जवानों ने युवक को कूदने से पहले रोक लिया। तत्काल उसे इंदरगंज थाना लेकर पहुंचे जहां काउंसिलिंग के बाद जब युवक सामान्य हो गया तो उसे परिजन के सुपुर्द किया है। घटना रविवार शाम 4 बजे की है। रात तक पुलिस ने उसके परिजन से फोन पर उसके हाल की जानकारी भी ली।

पत्नी से दुखी युवक को खुदकुशी करने से पहले बचाने वाले DIAL 100 के जवान

पत्नी से दुखी युवक को खुदकुशी करने से पहले बचाने वाले DIAL 100 के जवान

रविवार शाम DIAL 100 पुलिस कन्ट्रोम रूम पर एक कॉल आया। कॉल करने वाले ने बताया कि एक युवक जिसकी उम्र लगभग 30 से 35 होगी, वह तेजी से सागरताल की ओर चला जा रहा है। युवक चेहरे से काफी दुखी नजर आ रहा है। ऐसी आशंका है कि वह खुदकुशी कर सकता है। यह प्वाइंट मिलने के बाद भोपाल से तत्काल पास ही तैनात DIAL 100 (FRV-41) को घटना का विवरण देकर मौके पर पहुंचाया गया। DIAL 100 में तैनात आरक्षक कैलाश जाटव, आरक्षक नरेशभुज और चालक अमित सिंह सिसोदिया जब सागरताल पहुंचे तो युवक लगभग छलांग लगाने के लिए ऊपर चढ़ चुका था। तभी पुलिस जवानों ने उसे रोक लिया और नीचे उतारा। पुलिस को देखकर युवक रोने लगा। युवक की पहचान 32 वर्षीय संदीप नामदेव निवासी गेंडे वाली सड़क ग्वालियर के रूप में हुई है। इसके बाद उसे लेकर DIAL 100 की टीम इंदरगंज थाना पहुंची। यहां उसकी काउंसिलिंग की गई। जब वह सामान्य हो गया तो उसको परिजन के सुपुर्द किया गया है।

जेब में मिले सुसाइड नोट में लिखा था दर्द

संदीप ने सुसाइड नोट भी लिखकर जेब में रखा था। उसमें लिखा था कि उसकी शादी 2012 में रचना विश्वकर्मा निवासी ब्यावरा राजगढ़ के साथ हुई थी। पर हाल ही में पत्नी से अलगाव हो गया। पत्नी मुझे अचानक छोड़कर चली गई और बेटी को भी ले गई। जीवनभर साथ निभाने के वादे के बाद उसके धोखे से मैं दुखी हूं। उसकी मां, बहन, पत्नी का मामा व ममेरा भाई मुझे दहेज प्रताड़ना के झूठे मामले में फंसाने की धमकी दे रहे हैं। इससे मैं काफी दुखी हो चुका हूं। अब पुलिस उनके केस को परामर्श के लिए भेज रही है।

यह है वो सुसाइड नोट जो युवक की जेब में मिला, इसमें उसने अपना पूरा दर्द लिखा है

यह है वो सुसाइड नोट जो युवक की जेब में मिला, इसमें उसने अपना पूरा दर्द लिखा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help