कोरोना के बड़ते संक्रमित मरीज़ों को देखते हुए रेलवे ने टेयर किए ईसोंलेसोन :कोरोना की दूसरी लहर में तेजी से बढ़ रहे संक्रमित, 5071 आइसोलेशन कोच में 81 हजार मरीजों का हो सकेगा इलाज

रतलाम

कोरोना की दूसरी लहर में तेजी से बढ़ रहे संक्रमितों के इलाज के लिए जरूरत पड़ने पर रेलवे के 5071 आइसोलेशन कोच तैयार हैं। - Dainik Bhaskar

कोरोना की दूसरी लहर में तेजी से बढ़ रहे संक्रमितों के इलाज के लिए जरूरत पड़ने पर रेलवे के 5071 आइसोलेशन कोच तैयार हैं।

कोरोना की दूसरी लहर में तेजी से बढ़ रहे संक्रमितों के इलाज के लिए जरूरत पड़ने पर रेलवे के 5071 आइसोलेशन कोच तैयार हैं। इनमें रतलाम मंडल के 70 सहित 460 पश्चिम रेलवे जोन के कोच हैं। 4611 कोच बाकी 15 जोन के हैं। हर एक कोच में 16 बेड हैं। जरूरत पड़ी तो देश के अलग-अलग स्टेशनों पर खड़े इन आइसोलेशन कोच में करीब 81136 पॉजिटिव या संदिग्ध मरीजों को भर्ती करके उपचार किया जा सकेगा। एक शहर से दूसरे शहर ले जाया जा सकेगा। इनमें रेलवे और स्वास्थ्य विभाग मिलकर मेडिकल स्टाफ तैनात करेगा।

हालांकि अब तक इनके इस्तेमाल की नौबत नहीं आई है फिर भी कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर को देखते हुए रेलवे ने सालभर पहले बनाए गए इन कोच का मेंटेनेंस कराकर इस्तेमाल के लिए तैयार कर लिया है। 2020 के टोटल लॉकडाउन के बाद अप्रैल-मई में रेलवे ने देश के 16 जोन में 5,321 आईसीएफ स्लीपर कोच को आइसोलेशन वार्ड में बदला था। प्रत्येक कोच को तैयार करने में करीब 2 लाख रुपए का खर्च आया था।

पैसेंजर कोच में कन्वर्ट किए थे
काम नहीं आने पर जनवरी में रेलवे बोर्ड ने इनका फिर यात्री ट्रेनों में उपयोग करने को कहा था। इसके बाद 250 कोच फिर पैसेंजर में कन्वर्ट कर लिए थे, जबकि बाकी राज्य शासन से परमिशन नहीं मिलने के कारण अब भी आइसोलेशन कोच बने हुए हैं।

ये सुविधाएं हैं कोच में
ऑक्सीजन सिलेंडर स्टैंड। मेडिकल उपकरण चलाने पॉवर प्लग सॉकेट लगाए गए हैं। बॉटल स्टैंड। खिड़कियों पर बाहर से मच्छरदानी लगा दी है। एक कोच में दो को बाथरूम व दो को टॉयलेट में बदला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help