देश में लोगों की लापरवाही से बढ़ रहा कोरोना:विशेषज्ञ बोले- दूसरी लहर में कौन-सा वैरिएंट फैल रहा अभी यह भी नहीं पता; जिंदगी बचाने के लिए सतर्कता जरूरी

पिछले साल काेराेना ने जब भारत पर पहली बार हमला किया, तब यहां दुनिया का सबसे सख्त लाॅकडाउन लगाया गया। चेतावनी साफ थी कि 130 कराेड़ की आबादी में अगर यह वायरस तेजी से फैला, ताे बेहद खतरनाक साबित हाेगा। हालांकि, यह लाॅकडाउन गलतियाें से भरा था और इसने काफी नुकसान भी पहुंचाया, लेकिन संक्रमण की राेकथाम में यह काम करता दिखाई पड़ रहा था। संक्रमण दर घट रही थी और तुलनात्मक रूप से कम थी।

फिर सरकारें और जनता सावधानी छाेड़कर राेजमर्रा की दिनचर्या में व्यस्त हाे गईं। विशेषज्ञाें ने चेतावनी भी दी थी कि अगर संक्रमण की दूसरी लहर आती है ताे सरकार की बेतरतीब कार्यप्रणाली एक और संकट काे जन्म देगी और अब वह संकट सिर पर खड़ा है। हालांकि, मृत्युदर अभी कम है, लेकिन बढ़ रही है। इतने बड़े देश में वैक्सीन लगाना आसान नहीं है, इसके बावजूद यह काम धीमे चल रहा है। अस्पताल में बिस्तर भी कम पड़ते दिख रहे हैं।

वैज्ञानिक अभी वायरस के नए स्ट्रेन को समझने की कोशिश कर रहे
वैज्ञानिक अभी वायरस के नए स्ट्रेन (रूप) काे समझने की काेशिश कर रहे हैं। खासताैर पर यहां उस स्ट्रेन की पहचान की काेशिश कर रहे हैं, जिसने ब्रिटेन और दक्षिण अफ्रीका के लिए खतरा पैदा किया था। समस्या यह है कि प्रशासन ने यह कहते हुए हथियार डाल दिए हैं कि काॅन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग लगभग असंभव है।

विशेषज्ञाें का मानना है कि लापरवाही और सरकार की गलत नीतियाें के कारण भारत जाे संक्रमण के खिलाफ सफल हाेता नजर आ रहा था, वह आज दुनिया का सबसे ज्यादा प्रभावित देश बनता जा रहा है। इसका असर न केवल भारत पर, बल्कि पूरी दुनिया पर पड़ेगा। बावजूद इसके नेता बड़ी-बड़ी चुनावी रैलियां करते दिख रहे हैं।

ताे 70% आबादी काे वैक्सीन लगाने में दाे साल लग जाएंगे

  • पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया के चेयरमैन डाॅ. के श्रीनाथ रेड्डी कहते हैं कि अगर हम 4 से 6 हफ्ते कुछ करने के बाद सफलता का ढिंढाेरा पीटते हुए लापरवाही बरतने लगते हैं, ताे हम समस्या की तरफ बढ़ रहे हाेते हैं।
  • सेंटर फाॅर डिसीज डायनेमिक्स इकाेनाॅमिक्स एंड पाॅलिसी के डायरेक्टर डाॅ. रामानन लक्ष्मीनारायण कहते हैं कि अगर वैक्सीन लगाने की रफ्तार नहीं बढ़ाई गई ताे 70% आबादी काे वैक्सीन लगाने में दाे साल लग जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लाॅकडाउन के पक्ष में नहीं हैं।​​​​​ वे टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट से दूसरी लहर पर जीत दर्ज करने की सलाह दे रहे हैं। वहीं, उनके अफसर राज्य सरकाराें और जनता के आचरण पर दाेष मढ़ रहे हैं। भारत में आज के संकट की जड़ें संक्रमण के पहले चरण में ही हैं।
  • डाॅ. लक्ष्मीनारायण बताते हैं कि संभवत: वायरस 30 से 50 कराेड़ लाेगाें काे संक्रमित कर चुका है, लेकिन इसका मतलब यह भी है कि अभी 80 से 90 कराेड़ लाेग संक्रमित नहीं हुए हैं। यही सबसे बड़ी चिंता की वजह है।

एक महीना अहम, तभी जान पाएंगे कि हम किस वैरिएंट से लड़ रहे हैं
भारत में दाे तिहाई आबादी की उम्र 35 साल से कम है। अगर कोरोना से मृत्यु दर 45 से 75 साल के आबादी में मापी जाए, ताे हालात इटली, ब्राजील और अमेरिका से ज्यादा खराब नजर आएंगे। माैजूदा लहर में संक्रमण का वैरिएंट अलग हाे सकता है। लेकिन, इसकी पुष्टि तब तक नहीं हाे सकती, जब तक जिनाेम सिक्वेंसिंग टेस्ट की मात्रा 5% न हाे जाए। फिलहाल यह संख्या 1% है। विशेषज्ञ मानते हैं कि अगला एक महीना अहम हाेगा, यह जानने के लिए कि किस वैरिएंट से लड़ रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help