TRAI के चेयरमैन बने अनिल कुमार लाहोटी, रेलवे बोर्ड के पूर्व प्रमुख पद पर थे कार्यरत Public Live

0
16

TRAI के चेयरमैन बने अनिल कुमार लाहोटी, रेलवे बोर्ड के पूर्व प्रमुख पद पर थे कार्यरत

PublicLive.co.in

रेलवे बोर्ड के पूर्व प्रमुख अनिल कुमार लाहोटी को भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। ट्राई के पहले पूर्व अध्यक्ष पीडी वाघेला का कार्यकाल समाप्त हो गया है। इसके बाद लगभग 4 महीने से यह पद खाली था।

ट्राई ने इसको लेकर एक प्रेस रिलीज जारी किया है। इस प्रेस रिलीज में अथॉरिटी ने कहा कि कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने रेल मंत्रालय के रेलवे बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी अनिल कुमार लाहोटी को कार्यभार संभालने की तारीख से तीन साल की अवधि के लिए ट्राई के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त करने की मंजूरी दे दी है।

इस बीच ट्राई ने नए प्रमुख की नियुक्ति का स्वागत किया। उन्होंने इसको लेकर आशा व्यक्त की। ट्राई कहते हैं कि वह टेलीकॉम सेक्टर के विकास और उन्नति में योगदान देंगे।

उद्योग संगठन सीओएआई के महानिदेशक एसपी कोचर ने कहा

हम आशावादी हैं कि भारत के गतिशील टेलीकॉम सेक्टर की वृद्धि और उन्नति को नई गति मिलेगी और उनके समृद्ध अनुभव और मार्गदर्शन से गहरा लाभ मिलेगा। हम सशक्त और समावेशी डिजिटल भारत के राष्ट्रीय लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में उनके सक्षम मार्गदर्शन में ट्राई के साथ काम करने के लिए उत्सुक हैं।

Previous articleहेमंत सोरेन के दिल्ली आवास से भारी मात्रा में नकदी बरामद, ईडी ने जब्त की लग्जरी कार Public Live
Next articleहार्दिक पांड्या ने की अर्शिन कुलकर्णी की जमकर तारीफ, कहा….. Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।